महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री बोले- UP-MP को 48-40 लाख डोज, हमें सिर्फ 17 लाख क्यों? केंद्र ने दिया करारा जवाब

चैतन्य भारत न्यूज

केंद्र और महाराष्ट्र सरकार के बीच कोरोना वैक्सीन को लेकर टकराव अब बढ़ता जा रहा है। दरअसल, महाराष्ट्र सरकार ने वैक्सीन वितरण में भेदभाव का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि दूसरे राज्यों को ज्यादा और हमें कम डोज मिल रहे हैं। अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने महाराष्ट्र सरकार को आड़े हाथों लिया है।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने आरोप लगाया कि, ‘हमें हफ्ते में सिर्फ 17 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज मिली है, जबकि यूपी को 48 लाख, एमपी को 40 लाख और गुजरात को 30 लाख वैक्सीन डोज दी गई है।’ राजेश टोपे ने कहा कि, ‘मैंने केंद्र के भेदभाव के बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन से बात की है, हमारे यहां सबसे अधिक केस है, सबसे ज्यादा आबादी है और 57 हजार से अधिक मौतें हुई हैं, बावजूद इसके भेदभाव किया जा रहा है, मेरी शिकायत पर हर्षवर्धन ने कहा कि मैं देखता हूं और इसको सही कराता हूं।’

राज्य स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, ‘वैक्सीन की कमी के कारण सतारा, पनवेल समेत कई इलाकों में वैक्सीनेशन रूक गया है, हमने सबसे अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन की खुराक दी, बावजूद इसके दूसरे राज्यों को अधिक स्टॉक दिया गया, हमने हर हफ्ते 40 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज की मांग की है।’

डॉ. हर्षवर्धन ने महाराष्ट्र सरकार के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि, ‘देश में कहीं भी वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। महाराष्ट्र सरकार बार-बार अपनी गलतियों को दोहरा रही है। गलतियां दोहराने के चलते महाराष्ट्र में हालात खराब हुए। अब वहां की सरकार अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए हम पर आरोप लगा रही है। जो भी राज्य वैक्सीन कमी की बात कर रहे हैं वे राजनीतिक रूप से लोगों को डराने का काम कर रहे हैं।’

 

Related posts