साल 2019 के आखिरी दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किए ये बड़े ऐलान

nirmala sitaraman

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. साल 2019 के आखिरी दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह ऐलान किया है कि, जल्द ही नेशनल इंफ्रास्टक्चर पाइपलाइन कॉर्डिनेशन मैकनिज्म लॉन्च किया जाएगा। इसके कार्यान्वयन के लिए केंद्र, राज्य और निजी क्षेत्र के सहयोग से विस्तारपूर्वक योजना बनाई जाएगी।



वित्त मंत्री ने कहा कि, ‘सरकार ने इंफ्रास्टक्चर विकास पर 51 लाख करोड़ रुपए खर्च किए हैं। यह देश के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 5-6% हिस्सा है। अगले 5 साल में सरकार ने इस पर करीब 100 लाख करोड़ रुपए खर्च करने का लक्ष्य बनाया है। इस फंड को 21 मंत्रालयों के बीच आवंटित किया जाएगा। इस फंड से सभी 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इंफ्रास्टक्चर विकास पर काम किया जाएगा।’

102 लाख करोड़ किए जाएंगे खर्च

निर्मला सीतारमण ने कहा कि, ‘नेशनल इंफ्रास्टक्चर पाइपलाइन का उद्देश्य साल 2024-25 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की जीडीपी का लक्ष्य हासिल करना है। इस प्रोजेक्ट के तहत कुल 102 लाख करोड़ रुपए इंफ्रास्टक्चर सेक्टर पर खर्च किए जाएंगे। इनमें से 25 लाख करोड़ रुपए एनर्जी, 20 लाख करोड़ रोड और 14 लाख करोड़ रुपए रेलवे प्रोजेक्ट पर खर्च होंगे। ये प्रोजेक्ट पीपीपी (पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप) के तहत पूरे होंगे।’

निवेशकों की वार्षिक बैठक भी होगी

इस मौके पर वित्तमंत्री ने यह भी घोषणा की है कि, ‘निवेश आकर्षित करने के लिए निवेशकों की एक वार्षिक बैठक भी साल 2020 के मध्य में आयोजित की जाएगी।’ वित्त मंत्री ने कहा कि, ‘देश में इंफ्रास्टक्चर का विकास करना सरकार की प्राथमिकता है। इसकी योजनाओं में केंद्र और राज्य सरकार 39-39% निवेश करेंगे, जबकि निजी क्षेत्र की भागीदारी 22% होगी। 2025 तक निजी क्षेत्र की हिस्सेदारी बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है।’

ये भी पढ़े…

फोर्ब्स: दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं में शामिल निर्मला सीतारमण, रोशनी नाडर और किरण मजूमदार का भी नाम

निर्मला सीतारमण के पति ने की अर्थव्यवस्था की आलोचना, अब वित्त मंत्री ने दिया करारा जवाब

49 साल बाद कोई महिला वित्त मंत्री पेश करेंगी बजट, निर्मला सीतारमण ने परंपरा तोड़ते हुए फोल्डर में रखा बजट

Related posts