CAA : बेटियों के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा, मुनव्वर राना बोले- मुझ पर दर्ज करो मुकदमा, मैंने ऐसी बागी बेटियां पैदा की

munawwar rana daughter

चैतन्य भारत न्यूज

लखनऊ. उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के घंटाघर में धारा 144 लागू होने के बाद भी नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) को लेकर विरोध प्रदर्शन हुआ। इस मामले में उर्दू के मशहूर शायर मुनव्वर राना की बेटियों सुमैया राना और फौजिया राना समेत 159 के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज हुई है। बेटियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद मुनव्वर राना ने सरकार को चेतावनी दी है।



एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान मुनव्वर राना ने बेटियों पर एफआईआर होने को लेकर कहा कि, ‘मेरे पर मुकदमा दर्ज करो, ऐसी बागी बेटियां पैदा की।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून का विरोध पहले से चल रहा है और इसे रोकने के लिए शहर में धारा 144 लगाई गई है। जब शहर में धारा 144 लगी है तो गृहमंत्री अमित शाह यहां सभा को संबोधित करने कैसे आ रहे हैं।’

मुन्नवर राना ने कहा कि, ‘यहां की सरकार कहती है उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश है, यहां सब ठीक है। अगर यहां सब ठीक है तो धारा 144 क्यों लगाया गया।’ मुन्नवर राना बोले, ‘ये लड़कियां, महिलाएं जो प्रदर्शन कर रही हैं उनके पास ना कागज है, ना घर है ना छत है। वो डर रही है कि हमसे नागरिकता मांगी जाए हमसे कागज मांगे जाए जो हम ना दे पाए जो हमें देश से ना निकाल दिया जाए।’

उन्होंने कहा कि, ‘एक तरफ तो सरकार तीन तलाक के मामले में कहती है कि ये हमारी बेटियां हैं। दूसरी ओर जब वे अपना हक मांग रही हैं, प्रदर्शन कर रही हैं तो कभी उन्हें कंबल नहीं दिया जाता, खाने को छीन लिया जाता है।’ मुन्नवर राना ने कहा, ‘बीजेपी को इतने सालों बाद मौका मिला तो अपनी बात ‘सबका साथ सबका विकास’ पर कायम रहना चाहिए। हमारी बेटियां घंटाघर पर हैं और सरकार का रवैया है कि धारा 144 लगा दी। इतना खराब कानून तो हिटलर ने भी नहीं बनाया। एक तरफ शौचालय बनाने की बात करते हैं और जहां औरतें प्रदर्शन पर बैठी हैं, वहां शौचालय बंद कर दिया जाता है।’ मुनव्वर राना ने आगे कहा, ‘मैं सरकार को चेतावनी देते हुए अपना एक शेर फिर से कहता हूं कि एक आंसू भी हुकूमत के लिए खतरा है, तुमने देखा नहीं आंखों का समंदर होना।’

क्या है मामला?

लखनऊ के हुसैनाबाद स्थित घंटाघर पर नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर को लेकर महिलाओं का प्रदर्शन पांचवें दिन भी जारी है। डीसीपी पश्चिमी विकास चंद्र त्रिपाठी ने धारा 144 लागू होने के बावजूद महिलाओं के प्रदर्शन को असंवैधानिक करार दिया और बताया कि, ‘इस मामले में अब कुल 159 लोगों पर एफआईआर हो चुकी है।’

Related posts