देश की पहली लोकसभा के पूर्व सांसद कमल बहादुर सिंह का निधन, राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार

kamal bahadur singh,kamal bahadur singh death,kamal bahadur singh ka nidhan

चैतन्य भारत न्यूज

बक्सर. देश की पहली लोकसभा के पूर्व सांसद और बिहार के डुमरांव राज के अंतिम महाराज कमल बहादुर सिंह का निधन हो गया। वे 93 साल के थे। मुगल वंश के दूसरे शासक जहांगीर ने कमल सिंह को महाराज बहादुर की उपाधि दी थी।



ग्वालियर के महाराज माधव राव सिंधिया और जयपुर के राजा कर्ण सिंह से इनकी रिश्तेदारी थी। कमल सिंह के बेटे चंद्रविजय सिंह ने बताया कि, रविवार को बक्सर जिले के भोजपुर स्थित कोठी पर उनका पार्थिव शरीर लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। सोमवार सुबह उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कमल सिंह के निधन पर शोक जताया है। नीतीश ने कहा कि, ‘बिहार के शिक्षा और सामाजिक विकास में कमल सिंह का अहम योगदान रहा है।’ बता दें कि कमल बहादुर सिंह भारत की पहली लोकसभा के एकमात्र जीवित सांसद सदस्य थे।

कमल सिंह का स्वतंत्रता आंदोलन के बाद शाहाबाद में शिक्षा और सामाजिक विकास में अहम योगदान रहा। कमल सिंह आजादी के बाद पहले आम चुनाव में शाहाबाद से सांसद निर्वाचित हुए थे।

जानकारी के मुताबिक, बिहार सरकार ने राजकीय सम्मान के साथ कमल सिंह का अंतिम संस्कार कराने की घोषणा की है। सोमवार को सुबह 9 बजे राजगढ़ स्थित मार्बल हॉल में अंतिम दर्शन के लिए कमल सिंह का पार्थिव शरीर रखा जाएगा। सुबह 11 बजे अंतिम यात्रा निकलेगी और दोपहर 2 बजे बक्सर में अंतिम संस्कार होगा।

ये भी पढ़े…

बिहार की बेटी शिवांगी स्वरुप ने रचा इतिहास, बनेंगी नौसेना में देश की पहली महिला पायलट

बिहार के बक्सर जेल को मिला फांसी के फंदे बनाने का आदेश, निर्भया कांड के दोषियों को मिल सकती है सजा!

बक्सर में हुई हैदराबाद जैसी हैवानियत, दुष्कर्म के बाद युवती को जलाने का प्रयास

Related posts