चिन्मयानंद प्रकरणः आपत्तिजनक वीडियो लौटाने के एवज में पहले 25 लाख फिर मांग पहुंची 5 करोड़ रुपए तक

chinmayananad

चैतन्य भारत न्यूज

शाहजहांपुर. अपने ही ट्रस्ट की कॉलेज छात्रा के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद के आपत्तिजनक वीडियो के मामले में नया खुलासा हुआ है। इस मामले में आरोपितों ने वीडियो के बदले पहले केवल 25 लाख रुपए की मांग की थी लेकिन समझौता नहीं हो पाने के कारण मामला पुलिस तक पहुंच गया। सूत्रों के मुताबिक, अगस्त महीने के मध्य में चिन्मयानंद को इस बात की जानकारी मिल गई थी कि आपत्तिजनक वीडियो बनने के बाद वे फंस चुके हैं। इससे बचने के लिए उनसे रुपयों की मांग की गई। यह भी तय हो गया था कि 25 लाख रुपए लेकर वीडियो चिन्मयानंद को सौंप दिए जाएंगे लेकिन आरोपितों ने अगली बार एक करोड़ फिर पांच करोड़ रुपए की मांग कर दी।



चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा पर भी लटकी गिरफ्तारी की तलवार, तीन दोस्त हुए गिरफ्तार

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, इसी साल 22 अगस्त को चिन्मयानंद के मोबाइल पर अनजान नंबर से वाट्सएप मैसेज आया, जिसमें कहा गया कि पांच करोड़ रुपए नहीं दिए तो बदनाम कर देंगे। हालांकि, इसके पहले 14 अगस्त को आरोपित सचिन सेंगर चिन्मयानंद के पास पहुंचा। उसने चिन्मयानंद से कहा कि कॉलेज के पूर्व छात्र संजय व उसके भाई दुर्गेश के पास तुम्हारे कुछ आपत्तिजनक वीडियो व फोटो हैं, जो कि वायरल हो सकते हैं। यदि रुपए दे देंगे तो ऐसा होने से रोक सकता हूं। चिन्मयानंद के वकील ओम सिंह का कहना है कि चिन्मयानंद ने उसकी बातों पर भरोसा न करके उसे डांटकर भगा दिया था। बताया जाता है कि चिन्मयानंद ने अपने नजदीकी लोगों से इस बारे में बात की। उन्हें यह शंका हो गई कि आपत्तिजनक वीडियो बन चुका है। ऐसे में तय हुआ कि संजय से बात की जाए। उसे फोन किए गए, बातचीत में तय हो गया कि 25 लाख रुपए लेकर मामला खत्म कर दिया जाएगा। दो दिन बाद ही संजय की ओर से कहा गया कि 25 लाख नहीं, एक करोड़ रुपए में मामला निपटेगा। एक बार तो चिन्मयानंद भी राजी हो गए लेकिन बाद में उन्होंने रुपए देने से इनकार कर दिया।

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में चिन्मयानंद, कहा- मुझे अपने किए पर शर्म आती है 

पुलिस के पास मामला पहुंचा तो आरोपितों की मांग एक की बजाए पांच करोड़ हुई

दरअसल, चिन्मयानंद इतने रुपए का इंतजाम करने में सक्षम नहीं थे इसलिए बचने के लिए उन्होंने पुलिस का सहारा लिया। बताया जा रहा है कि उन्हें सुझाव दिया गया कि एफआईआर दर्ज कराएंगे तो मामला मीडिया में आएगा इसलिए केवल शिकायत दे दें। उसी के आधार पर युवकों को पकड़कर चर्चा की जाएगी लेकिन इस बात की भनक आरोपित संजय, दुर्गेश व सचिन को लग गई और वे शाहजहांपुर से बाहर चले गए। चिन्मयानंद द्वारा पुलिस में शिकायत से गुस्साए संजय ने एक अन्य नंबर से 22 अगस्त को पांच करोड़ रुपए देने का मैसेज भेजा।

चिन्मयानंद रेप केस : पीड़ित छात्रा बोली- चिन्मयानंद की गिरफ्तारी नहीं हुई, तो कर लूंगी आत्मदाह

25 अगस्त को चिन्मयानंद के वकील ओम सिंह ने चौक कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज करवा दिया था। इससे पहले 24 अगस्त को छात्रा एक वीडियो वायरल कर चुकी थी कि चिन्मयानंद ने उसका यौन शोषण किया। छात्रा लापता हो गई और मामला गरमाता गया, सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जांच के लिए एसआईटी बनी। जांच चल रही थी कि 10 सितंबर को एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें कथित रूप से छात्रा व संजय, दुर्गेश. सचिन व एक अन्य युवक रंगदारी के रुपए व मैसेज को लेकर बातचीत करते दिख रहे थे। एसआईटी ने इस वीडियो को सही माना, जिसके बाद शुक्रवार को संजय, दुर्गेश व सचिन को रंगदारी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। छात्रा का नाम भी आरोपितों में शामिल है। हालांकि अभी उसकी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

ये भी पढ़े…

पीड़ित छात्रा ने SIT को सौंपे चिन्मयानंद के 43 अश्लील वीडियो, कहा- मेरे नहाने का बनाया था वीडियो

चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा बरामद, सुप्रीम कोर्ट ने उसे पेश करने के निर्देश दिए

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर लगा शारीरिक शोषण का आरोप 

रेप आरोपित पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को SIT ने किया गिरफ्तार

Related posts