भगवान गणेश क्यों कहलाएं ‘लंबोदर’, जानिए इस अवतार की महिमा

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,ganesh ke roop, ganesh ji ka lamobdar avtar

चैतन्य भारत न्यूज

2 सितंबर से गणेश उत्सव की शुरुआत हो गई है। प्रत्येक घर में गणेश जी के अलग-अलग स्वरूपों की स्थापना की जाती है। बता दें भगवान गणेश के कुल 8 स्वरुप हैं। इनमें से पांचवा स्वरुप ‘लंबोदर’ है। भगवान गणेश को क्यों ‘लंबोदर’ कहा जाता है? आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी-

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,ganesh ke roop, ganesh ji ka lamobdar avtar

लंबोदर क्यों बने गणेश?

पुराणों में बताया गया कि एक बार भगवान शिव अपनी पत्‍नी पार्वती को जीवन और मृत्‍यु चक्र के बारे में बता रहे थे। भगवान नहीं चाहते थे उनकी और माता पार्वती के बीच की ये बातें कोई और सुने। इसके लिए उन्‍होंने कैलाश पर्वत पर एक गुप्‍त स्‍थान को चुना और यहां आकर वह माता पार्वती को जीवन और मृत्‍यु से जुड़ी कहानियां सुनाने लगे।

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,ganesh ke roop, ganesh ji ka lamobdar avtar

इस दौरान भगवान शिव ने गणेशजी को एक द्वारपाल के रूप में तैनात कर दिया कि कोई उनकी बातें सुनने के लिए अंदर गुफा में न आने पाए। पिता की आज्ञा मानकर भगवान गणेश द्वारपाल के रूप में वहां पर तैनात हो गए। कुछ समय में बाद इंद्रदेव अन्य देवताओं की टोली के साथ वहां पहुंच गए और भगवान शंकर से मिलने के लिए कहने लगे। किंतु पिता की आज्ञा के अनुसार, गणेशजी इंद्र और बाकी देवताओं को वहां जाने से रोकने लगे।

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,ganesh ke roop, ganesh ji ka lamobdar avtar

गणेशजी के व्‍यवहार से इंद्र देवता नाराज हो गए। देखते ही देखते इंद्र देव और गणेशजी के बीच जंग शुरू हो गई। दोनों के बीच छिड़ी जंग में भगवान गणेश ने इंद्र देवता को पराजित कर दिया। लेकिन युद्ध करते-करते वह काफी थक गए और उन्‍हें भूख लग गई। तब उन्‍होंने ढेर सारे फल खाए और खूब सारा गंगाजल पिया। भूख-प्‍यास अधिक लगने के कारण वह खाते गए खाते और पानी पीते गए और देखते ही देखते उनका उदर (पेट) बड़ा होता चला गया। तब उनके पिता भगवान शिव की नजर उन पर पड़ी तो उनके लंबे उदर को देखकर वह उन्‍हें लंबोदर पुकारने लगे। इसके बाद से ही गणेशजी के कई नामों में एक लंबोदर भी जुड़ गया और वह लंबोदर कहलाने लगे।

 ये भी पढ़े…

आखिर क्यों भगवान गणेश ने लिया था महोदर अवतार, जानिए इसके पीछे की कहानी

गणेश चतुर्थी 2019 : ये हैं पोटली वाले गणपति बप्पा, रुकी हुई शादियों की मन्नत करते हैं पूरी

इस मुस्लिम देश के नोट पर विराजमान हैं भगवान गणेश, जानिए क्या है कारण

Related posts