माता पार्वती के मैल से हुआ था भगवान गणेश का जन्म, जानिए वे क्यों कहलाएं गजमुख

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi 2019,ganesh chaturthi puja vidhi,ganesh chaturthi 2019,ganesh janm katha,ganesh sthapana

चैतन्य भारत न्यूज

2 सितंबर से गणेश चतुर्थी का पर्व देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगा। इसे विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। मान्‍यता है कि इसी दिन बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्‍य के देवता श्री गणेश का जन्‍म हुआ था। इस पर्व को देश भर में खास तौर से महाराष्‍ट्र और मध्‍य प्रदेश में हर्षोल्‍लास, उमंग और उत्‍साह के साथ मनाया जाता है। श्री गणेश माता पार्वती और शिवजी के बेटे हैं। गणेश चतुर्थी के मौके पर आइए जानते हैं गणेश की जन्म कथा।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi 2019,ganesh chaturthi puja vidhi,ganesh chaturthi 2019,ganesh janm katha,ganesh sthapana

श्री गणेश की जन्म कथा

कहा जाता है कि देवी पार्वती ने एक बार शिव के गण नंदी के द्वारा उनकी आज्ञा के पालन में त्रुटि के कारण अपने शरीर के मैल और उबटन से एक बालक का निर्माण कर उसमें प्राण डाल दिए और कहा कि ‘तुम मेरे पुत्र हो। तुम मेरी ही आज्ञा का पालन करना और किसी की नहीं। हे पुत्र! मैं स्नान के लिए भोगावती नदी जा रही हूं। कोई भी अंदर न आने पाए।’ कुछ देर बाद वहां भगवान शंकर आए और पार्वती के भवन में जाने लगे। यह देखकर उस बालक ने उन्हें रोकना चाहा, बालक हठ देखकर भगवान शंकर क्रोधित हो गए। इसे उन्होंने अपना अपमान समझा और अपने त्रिशूल से बालक का सिर धड़ से अलग कर भीतर चले गए।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi 2019,ganesh chaturthi puja vidhi,ganesh chaturthi 2019,ganesh janm katha,ganesh sthapana

जब इस बारे में माता पार्वती को पता लगा तो वह बाहर आईं और रोने लगीं। उन्होंने शिवजी से कहा कि, आपने मेरे बेटा का सिर काट दिया। शिवजी ने पूछा कि ये तुम्हारा बेटा कैसे हो सकता है? इसके बाद माता पार्वती ने शिवजी को पूरी कथा बताई।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi 2019,ganesh chaturthi puja vidhi,ganesh chaturthi 2019,ganesh janm katha,ganesh sthapana

शिवजी ने माता पार्वती को मनाते हुए कहा कि, ‘ठीक है मैं इसमें प्राण डाल देता हूं, लेकिन प्राण डालने के लिए एक सिर चाहिए।’ इस पर उन्होंने गरूड़ जी से कहा कि, ‘उत्तर दिशा में जाओ और वहां जो भी मां अपने बच्चे की तरफ पीठ कर के सोई हो उस बच्चे का सिर ले आना।’

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi 2019,ganesh chaturthi puja vidhi,ganesh chaturthi 2019,ganesh janm katha,ganesh sthapana

गरूड़ जी भटकते रहे पर उन्हें ऐसी कोई मां नहीं मिली क्योंकि हर मां अपने बच्चे की तरफ मुंह कर के सोती है। अंतत: उन्हें एक हथिनी दिखाई दी। हथिनी का शरीर का प्रकार ऐसा होता हैं कि वह बच्चे की तरफ मुंह कर के नहीं सो सकती है। गरूड़ जी उस शिशु हाथी का सिर ले आए। भगवान शिवजी ने वह बालक के शरीर से जोड़ दिया। उसमें प्राणों का संचार कर दिया। उनका नामकरण कर दिया। इस तरह श्रीगणेश को हाथी का सिर लगा। इसके बाद से भगवान गणेश को गजमुख भी कहा जाने लगा।

ये भी पढ़े…

दरिद्रता से बचना चाहते हैं तो गणेश चतुर्थी पर भूलकर भी न करें ये गलतियां

इस बार गणेश चतुर्थी पर बन रहा है यह विशेष संयोग, इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा-अर्चना

गणेश चतुर्थी : इन चीजों को अर्पित करने से खुश होते हैं बप्पा, पूरी होती है सभी मनोकामनाएं

Related posts