सोमवार और गणेश चतुर्थी व्रत का खास संयोग, इस विधि से पूजा करने पर बन जाएंगे बिगड़े काम

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi ka mahtav,ganesh chaturthi vrat ki puja vidhi,ganesh chaturthi

चैतन्य भारत न्यूज

19 अगस्त सोमवार को यानी आज भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी है। इस तिथि को गणेश चतुर्थी व्रत कहते हैं। इस बार आने वाली गणेश चतुर्थी का महत्व और भी बढ़ गया है।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi ka mahtav,ganesh chaturthi vrat ki puja vidhi,ganesh chaturthi

दरअसल इस बार गणेश चतुर्थी सोमवार के दिन पड़ रही है। ऐसे में गणेशजी के साथ ही शिवजी की भी विशेष पूजा करनी चाहिए। माना जाता है कि जो भी भक्त गणेश चतुर्थी का व्रत करता है उसे सुख-समृद्धि, ज्ञान और बुद्धि की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं गणेश चुतर्थी की पूजा-विधि।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi ka mahtav,ganesh chaturthi vrat ki puja vidhi,ganesh chaturthi

गणेश चुतर्थी की पूजा-विधि

  • गणेश चतुर्थी पर स्नान के बाद लाल वस्त्र धारण करें।
  • गणेशजी के सामने व्रत करने का संकल्प लें और पूरे दिन अन्न ग्रहण न करें।
  • इसके बाद पूजा के दौरान गणेश जी को सिंदूर, दूर्वा, फूल, चावल, फल, प्रसाद आदि अर्पित करें।
  • पूजा के समय ‘श्री गणेशाय नम: मंत्र’ का जाप करते हुए पूजा करें।

ganesh chaturthi,ganesh chaturthi ka mahtav,ganesh chaturthi vrat ki puja vidhi,ganesh chaturthi

  • इसके बाद इन 12 मंत्रों का जाप करें- ऊँ सुमुखाय नम:, ऊँ एकदंताय नम:, ऊँ कपिलाय नम:, ऊँ गजकर्णाय नम:, ऊँ लंबोदराय नम:, ऊँ विकटाय नम:, ऊँ विघ्ननाशाय नम:, ऊँ विनायकाय नम:, ऊँ धूम्रकेतवे नम:, ऊँ गणाध्यक्षाय नम:, ऊँ भालचंद्राय नम:, ऊँ गजाननाय नम:।
  • सच्चे मन से पूजा करने के बाद प्रसाद ग्रहण करें और रात को व्रत खोल दें।

ये भी पढ़े…

देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां इंसानी रूप’ में विराजमान हैं भगवान गणेश, जानिए इससे जुड़ा गहरा रहस्य

बुधवार को इस मंत्र के जाप पूर्ण करें अपना व्रत, जरुर प्रसन्न होंगे भगवान गणेश

बुधवार को इस तरह करें भगवान गणेश की विशेष पूजा, बन जाएंगे सभी बिगड़े काम

Related posts