श्मशान घाट हादसाः अब तक 25 लोगों की मौत, 3 लोग गिरफ्तार, ठेकेदार फरार, लोगों ने शव हाईवे पर रख लगाया जाम

चैतन्य भारत न्यूज

दिल्ली से सटे गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान में हुए हादसे में अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है। इस मामले में पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। मुरादनगर नगरपालिका की अधिशाषी अधिकारी निहारिका सिंह, जूनियर इंजीनियर चंद्रपाल और सुपरवाइजर आशीष को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ठेकेदार अजय त्यागी अभी भी फरार चल रहा है।

इन लोगों को किया गिरफ्तार

अधिशाषी अधिकारी निहारिका सिंह, ठेकेदार अजय त्यागी, जेई चंद्रपाल और सुपरवाइजर आशीष समेत अन्य अज्ञात व संबंधित अधिकारियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की एफआईआर (FIR) दर्ज की गई थी। मंडलायुक्त अनीता सी मेश्राम के निर्देश पर गैर इरादतन हत्या, भ्रष्टाचार लापरवाही सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज क़िया गया है।

शवों को रोड पर रख किया जाम

मंडलायुक्त का कहना है कि, इन सभी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है इसके बाद आगे की विधिक कार्रवाई होगी। सोमवार को मृतकों के परिजनों ने शवों को मुरादनगर में रखकर जाम लगा दिया है। इसके कारण कई अन्य रास्तों पर भी भारी ट्रैफिक जाम लग गया है। नाराज परिजन सीएम को बुलाने की मांग कर रहे हैं। परिजन शव को रोड पर रखकर परिजन 15 लाख रुपए , एक सरकारी नौकरी की मांग कर रहे हैं। जाम लगने के बाद प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं और परिजनों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं। मौके पर भारी पुलिस बल तैनात है।

ये है पूरा मामला

श्मशान घाट पर मुरादनगर के फल कारोबारी जयराम का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। जयराम का 65 साल की उम्र में निधन हो गया था। हादसे का शिकार सभी लोग अंतिम संस्कार करने के लिए आए थे। अंतिम संस्कार में 100 से ज्यादा लोग शामिल थे। ये सभी लोग अंत्येष्टि के बाद श्मशान घाट के गेट से सटी गैलरी में मौन धारण करने के लिए जमा हुए थे। इसी दौरान ये हादसा हो गया। हादसे में मृतक जयराम के बेटे की भी मौत हो गई। आरोप है कि सरिया को छोड़ निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया। गैलरी ढहते ही निर्माण सामग्री चूरे में तब्दील हो गई।

गाजियाबाद : श्मशान घाट में गिरी छत, 25 लोगों की मौत, 40 से ज्यादा लोगों के दबे होने की आशंका

 

Related posts