गाजियाबाद हादसा: पिता का अंतिम संस्कार कर रहे बेटे की भी मलबे में दबकर गई जान, अब तक 21 लोगों की मौत

चैतन्य भारत न्यूज

दिल्ली से सटे गाजियाबाद से एक बड़ा हादसा हो गया है। मुरादनगर के श्मशान घाट परिसर में गैलरी की छत गिर गई। अभी तक 21 लोगों के मरने की खबर है। मलबे से निकालकर कई घायलों को अस्पताल में पहुंचाया गया है। जिस शख्स का दाह संस्कार चल रहा था, हादसे में उनके एक बेटे की भी मौत हुई है।

जान लेने वाला ये हादसा गाजियाबाद थाने के मुरादनगर इलाके में हुआ है। गाजियाबाद पुलिस और रेस्क्यू ऑपरेशन की टीम घटनास्थल पहुंच गई है और राहत और बचाव कार्य में जुट गई है। घटना के बाद पूरे इलाके में हड़कंप मच गया। उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद के मुरादनगर में छत गिरने की घटना का संज्ञान लिया है। उन्होंने तत्काल जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को मौके पर पहुंचकर राहत एवं बचाव कार्य संचालित करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि हादसे में घायल लोगों का समुचित उपचार सुनिश्चित कराएं।

जानकारी के मुताबिक, श्मशान घाट पर मुरादनगर के फल कारोबारी जयराम का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। जयराम का 65 साल की उम्र में निधन हो गया था। हादसे का शिकार सभी लोग अंतिम संस्कार करने के लिए आए थे। अंतिम संस्कार में 100 से ज्यादा लोग शामिल थे।  ये सभी लोग अंत्येष्टि के बाद श्मशान घाट के गेट से सटी गैलरी में मौन धारण करने के लिए जमा हुए थे। इसी दौरान ये हादसा हो गया। आरोप है कि सरिया को छोड़ निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया। गैलरी ढहते ही निर्माण सामग्री चूरे में तब्दील हो गई। ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर की तैयारी शुरू कर दी गई है। प्रशासन ने नगर पालिका ईओ से निर्माण के मामले में तत्काल पूरी रिपोर्ट मांगी है।

Related posts