सबसे महंगे बिकने वाले इस भारतीय मशरूम के लिए उठी GI टैग देने की मांग, विदेशों में भी खूब है इसकी डिमांड

चैतन्य भारत न्यूज

दुनिया का सबसे महंगा मशरूम भारत में मिलता है। इसकी डिमांड दुनियाभर में है। इसलिए अब इस मशरूम को जीआई टैग (GI Tag) दिए जाने की मांग की जा रही है। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने खुद इसे लेकर ट्वीट किया है। बता दें मशरूम को एक किलो खरीदने के लिए आपको 20 से 30 हजार रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। इसे खाने से दिल से संबंधित बीमारी नहीं होती है। ये एक तरह से मल्टी-विटामिन की प्राकृतिक गोली है।


नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने ट्वीट में लिखा कि, ‘भारत के सबसे महंगे मशरूम के लिए जीआई टैग की मांग की गई है। यह मशरूम जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में पैदा होता है। इसकी कीमत खुदरा बाजार में 20 हजार रुपए प्रति किलो से ज्यादा तक जाती है।’

बता दें इस सब्जी का नाम गुच्छी (Gucchi)। गुच्छी का वैज्ञानिक नाम मार्कुला एस्क्यूपलेंटा है। इसे स्पंज मशरूम भी कहा जाता है। यह हिमालय पर मिलने वाले जंगली मशरूम की प्रजाति है। बाजार में इसकी कीमत 25 से 30 हजार रुपए किलो है। इसकी सब्जी को बनाने में ड्राय फ्रूट, अन्य सब्जियां और देशी घी का इस्तेमाल होता है। विदेशों तक में इसकी खूब मांग है। इसे लेकर एक माकिया कहावत भी है कि यदि गुच्छी की सब्जी खानी है तो बैंक से लोन लेना पड़ सकता है।

लजीज पकवानों में गिनी जाने वाली औषधीय गुणों से भरपूर गुच्छी के नियमित उपयोग से दिल की बीमारियां नहीं होती हैं। दिल की बीमारियों से पीड़ित लोग अगर इसे रोज थोड़ी मात्रा में ले तो उन्हें फायदा होगा। इसे हिमालय के पहाड़ों से लाकर सुखाया जाता है। इसके बाद इसे बाजार में उतारा जाता है। इसमें अलग-अलग क्वालिटी की सब्जी आती है। बता दें पिछले साल केसर को जीआई टैग दिया गया था।

तीन दशक की जद्दोजहद के बाद कश्मीरी केसर को मिली असली पहचान, मिला GI टैग

 

Related posts