गूगल ने माना- कंपनी के कर्मचारी सुनते हैं आपकी निजी वॉयस रिकॉर्डिंग…

चैतन्य भारत न्यूज

सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल आपकी सभी बातें सुनता है। न सिर्फ बातें सुनता है बल्कि गूगल आपको ट्रैक करता है, वह आपके व्यव्हार पर भी नजर रखता है। ये सभी बातें आपने पहले भी कई बार सुनी होगी। इन बातों में कुछ भी नया नहीं है। गूगल आपके हर काम पर नजर रखता है लेकिन आपकी सहमति मिलने के बाद ही। गूगल पर टर्म्स और कंडीशन पर ‘यस आई एम एग्री’ पर क्लिक करते समय शायद आपने उसमें लिखी बातें कभी ध्यान से नहीं पढ़ी होगी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब गूगल ने ये भी माना है कि गूगल कर्मचारी ‘गूगल होम स्मार्ट स्पीकर्स’ के जरिए आपकी ऑडियो रिकॉर्डिंग्स भी सुनते हैं। इस तरह के रिकॉर्डिंग्स को सुनने के लिए गूगल ने लैंग्वेज एक्सपर्ट्स भी रखे हैं। ये एक्सपर्ट्स यूजर्स द्वारा गूगल होम असिस्टेंट से की गई बातें या यूं कहें कि इन्हें दिए गए कमांड्स को सुनते हैं। इस बारे में गूगल का कहना है कि, वह यूजर्स की रिकॉर्डिंग्स इसलिए सुनते हैं ताकि वॉयस रिकॉग्निशन टेक्नॉलजी को और बेहतर किया जा सके। लेकिन इस तरह की रिकॉर्डिग से यूजर्स की गोपनीयता पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं।

गूगल द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि, ‘हम दुनिया भर में लैंग्वेज एक्स्पर्ट्स के साथ पार्टनरशिप करते हैं जिससे कि छोटे पैमाने पर सवालों को ट्रांस्क्राइब करके स्पीच टेक्नॉलजी को बेहतर कर सकें। गूगल असिस्टेंट जैसे प्रोडक्ट के लिए इस तरह की टेक्नॉलजी पर काम करना महत्वपूर्ण है।’ हालांकि, गूगल ने इस दौरान यह भी कहा कि, ‘उनके लैंग्वेज एक्सपर्ट्स सिर्फ 0.2% ऑडियो का ही रिव्यू करते हैं और ये रिव्यू प्रॉसेस के तहत यूजर अकाउंट्स से जुड़े नहीं होते हैं।’

बता दें गूगल असिस्टेंट कंपनी का वर्चुअल असिस्टेंट होता है जो हर एंड्रॉयड स्मार्टफोन में भी मिलता है। गूगल होम स्मार्ट स्पीकर्स में भी गूगल असिस्टेंट दिया जाता है। यूजर्स गूगल असिस्टेंट के जरिए ही बातचीत करते हैं और अपने जरूरत के कमांड्स देते हैं।

Related posts