गूगल ने 10 साल बाद एंड्रॉयड वर्जन का नाम मिठाइयों के नाम पर रखने की परंपरा खत्म की, अब आएगा एंड्रॉयड-10

android names

चैतन्य भारत न्यूज

कैलिफोर्निया. 2009 से लेकर 2018 तक एंड्रॉयड के हर वर्जन का नाम मिठाई पर रखने वाले गूगल ने आखिरकार यह परंपरा तोड़ने का फैसला कर लिया है। अमेरिकी टेक्नोलॉजी कंपनी गूगल ने मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड के अगले वर्जन का नाम एंड्रॉयड-10 रख दिया है। इससे पहले एंड्रॉयड के जितने भी आधिकारिक वर्जन लॉन्च हुए थे, सबका नाम किसी मिठाई या मीठी चीज के नाम पर ही रखा गया था।

नामकरण का यह तरीका इतना लोकप्रिय हो गया था कि जब भी एंड्रॉयड का नया वर्जन लॉन्च होने वाला होता था लोग इसे लेकर कयास लगाते रहते थे। कई वेबसाइट्स तो सिर्फ इसलिए बनाई जाती थी कि वहां जाकर लोग अनुमान लगाएं कि एंड्रॉयड के अगले वर्जन का नाम किस मिठाई के नाम पर रखा जाएगा। अब इस बड़े बदलाव को लेकर गूगल का कहना है कि उसने अब तक जो भी नाम चुने, उनमें से कुछ ऐसे थे जिसका मतलब दुनिया के कई देशों के लोग समझ ही नहीं पाते थे क्योंकि कोई भी मिठाई हर देश में पसंद की जाती हो, प्रचलित हो यह जरूरी नहीं है। कंपनी ने अब यह फैसला किया है कि नए वर्जन का नाम ऐसा रखा जाए जो हर कोई सहजता से समझ सके। अब एपल के आपरेटिंग सॉफ्टवेयर आईओएस की तरह यूजर्स को इस नए वर्जन को समझना आसान होगा। संभावना जताई जा रही है कि अगले कुछ हफ्तों में एंड्रॉयड-10 को नए यूजर्स के लिए जारी किया जा सकता है।

गौरतलब है कि वर्जन के नाम वाली सारी मिठाइयां विदेशी रहीं। एंड्रॉयड का पहला आधिकारिक वर्जन एंड्रॉयड 1.5 था। कंपनी के एक प्रोग्राम मैनेजर ने इसे कपकेक का नाम दिया। कपकेक अंग्रेजी अल्फाबेट के अक्षर सी से शुरू होता है। इसके बाद जितने भी वर्जन लॉन्च हुए, उसका नाम का अल्फाबेट अगले अक्षर के ऊपर रखा गया। कपकेक के बाद डोनट (डी), इक्लेयर (ई) आदि लॉन्च हुए। नए वर्जन का नाम एंड्रॉयड क्यू की जगह एंड्रॉयड-10 तय किया गया है।

अब तक ये वर्जन लॉन्च हुए

वर्ष 2009- कपकेक (उत्तरी अमेरिका की मिठाई)

वर्ष 2009- डोनट (नीदरलैंड)

वर्ष 2009- इक्लेयर (फ्रांस)

वर्ष 2010- फ्रोयो (भारत-मध्य एशिया)

वर्ष 2010- जिंजरब्रेड (जर्मनी)

वर्ष 2011- हनीकॉम्ब

वर्ष 2011- आइसक्रीम सैंडविच (अमेरिका)

वर्ष 2012- जेलीबीन (अमेरिका)

वर्ष 2013- किटकैट (ब्रिटेन)

वर्ष 2014- लॉलीपॉप (जर्मनी, नीदरलैंड)

वर्ष 2015- मार्शमेलो (फ्रांस)

वर्ष 2016- नोगट (स्पेन)

वर्ष 2017- ओरियो (अमेरिका)

वर्ष 2018- पाई (उत्तरी यूरोप)

 

 

Related posts