दिल्ली से शव नहीं आ सका तो डेढ़ साल के बेटे ने पिता के पुतले का किया अंतिम संस्कार, बेबसी की ये कहानी आपको भी मायूस कर देगी

चैतन्य भारत न्यूज

गोरखपुर. रोजाना कोरोना वायरस से जुड़ी कई दिल दहला देने वाली घटनाएं सामने आ रही हैं। लेकिन हम आपको आज एक ऐसी घटना के बारे में बता रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप भी सोचेंगे कि इंसान कितना मजबूर हो गया है। गरीबी और मजबूरी इस कदर कि एक डेढ़ साल के मासूम बच्चे को अपने ही पिता का शव तक नसीब नहीं हुआ और उसे पिता के पुतले का अंतिम संस्कार करना पड़ा।

गोरखपुर निवासी सुनील (37) की दिल्ली में चेचक से मौत हो गई। दिल्ली में यह हालात है कि एक लाश हफ्ते भर से अंतिम संस्कार के लिए इंतजार में है। किसी तरह दिल्ली पुलिस ने सुनील के परिवारवालों को उसकी मौत की खबर दी। गरीबी के कारण पत्नी के पास लाश ले जाने तक के पैसे नहीं थे और लॉकडाउन के कारण वह कुछ कर पाने में भी असमर्थ थी। पत्नी ने ग्राम प्रधान व अन्य लोगों से मदद मांगी, लेकिन मायूसी हाथ लगी। बेबस होकर पत्नी पूनम ने पति की जगह उसके पुतले का गांव में अंतिम संस्कार कर दिया। डेढ़ साल के बेटे अभि ने अपने पिता के पुतले को मुखाग्नि दी। तहसीलदार द्वारा दिल्ली पुलिस को यह सन्देश भिजवा दिया गया कि सुनील का अंतिम संस्कार वहीं पर कर दिया जाए और हो सके तो अस्थियां पीड़ितों के गांव भेज दी जाएं।

घर की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए ही सुनील दिल्ली गया था जहां वो मजदूरी करता था। सुनील और पूनम की चार बेटियां और एक बेटा हैं, जिनके सामने अब रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। यहां तक की जमीन भी नहीं है, जहां वे लोग खेती कर अपना पेट भर सकें। सुनील के दो भाई हैं, लेकिन वह अलग रहते हैं। जबकि माता कमला देवी परिवार से अलग रहती हैं।

लॉकडाउन के कारण सुनील दिल्ली में ही फंस गया। इस बीच उसे चेचक हो गया। 11 अप्रैल को तबीयत बिगड़ने पर स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस ने उसे बाड़ा हिंदूराव अस्पताल में भर्ती करा दिया, जहां से उसे अलग-अलग तीन अस्पताल में रेफर किया गया। फिर 14 अप्रैल को सुनील की सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई। उसकी कोरोना रिपोर्ट भी नेगटिव आई।

परिवार लगातार सुनील को फोन करता रहा लेकिन उसने फोन नहीं उठाया क्योकि सुनील तो अस्पताल में जिंदगी-मौत से लड़ रहा था और मोबाइल उसके कमरे पर था। कुछ दिन में फोन की बैटरी खत्म हो गई। फिर पुलिस ने मोबाइल बरामद कर उसे चार्ज किया तो वापस उस पर सुनील के घर से फोन आया। इसके बाद पुलिस ने सुनील की पत्नी को उसकी मौत की खबर दी।

ये भी पढ़े…

लॉकडाउन के कारण आखिरी बार सामने से भी नहीं कर सकी पति का दीदार, वीडियो कॉल पर देखा अंतिम संस्कार

अंतिम संस्कार के लिए दीवार पर चिपकाए 500 के नोट, दो बच्चों का गला घोंटकर 8वीं मंजिल से कूदे दंपती और महिला

Related posts