केंद्र सरकार ने लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ाने पर विचार शुरू किया, मातृत्व उम्र की भी होगी समीक्षा, गठित होगी टास्क फोर्स

wedding

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. लड़कियों की शादी और उनकी मां बनने की उम्र तय करने पर विचार करना शुरू हो गया है। केंद्र सरकार ने मां बनने की उम्र कम करने के उद्देश्य से मातृत्व प्रवेश आयु की समीक्षा के लिए टास्क फोर्स (कार्य दल) का गठन किया है।

पूर्व समता पार्टी अध्यक्ष जया जेटली की अध्यक्षता में गठित किए गए 10 सदस्यीय टास्क फोर्स विवाह और मातृत्व की आयु से संबंधित सभी पहलुओं पर गौर करेगा। 31 जुलाई तक यह टास्क फाॅर्स रिपोर्ट सौपेगा। मातृत्व प्रवेश आयु समीक्षा से संकेत मिलता है कि एक बार फिर लड़कियों की शादी की न्यूनतम आयु बढ़ाई जा सकती है जो अभी 18 वर्ष है। टास्क फोर्स लड़कियों के बीच उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सुझाव तो देगा ही और साथ ही उपयुक्त विधायी उपायों और मौजूदा कानूनों में भी संशोधन पर अपनी सिफारिश देगा। कार्य दल सिफारिशों को तय समयसीमा में लागू करने की विस्तृत योजना भी तैयार करेगा।

लड़कियों के विवाह की उम्र का संबंध उसके मातृत्व में प्रवेश की उम्र, माता और बच्चे की सेहत के अलावा जनसंख्या नियंत्रण व लड़कियों की शिक्षा और करियर से भी है। फिलहाल महिलाओं और बच्चों में कुपोषण भारत की बड़ी समस्याओं में से एक है। टास्क फाॅर्स का अहम उद्देश्य इससे निपटना ही है।

Related posts