दूल्हे ने लगाई 12 किलोमीटर तक दौड़, पीछे-पीछे भागे 50 बाराती, जानें मामला

indore,madhya pradesh,

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. दूल्हे की बारात हवाई जहाज, बाइक और कार के साथ हमेशा देखने को मिलती है। लेकिन शायद ही किसी ने ये देखा हो कि दूल्हा दौड़ते हुए अपनी बारात लेकर जाए। जी हां… मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में एक ऐसी ही अनोखी बारात देखने को मिली। ना बैंड, ना घोड़ी और ना ही आतिशबाजी। शेरवानी पहन, गले में गुलाब के फूलों की माला, सिर पर कलगी से सजे साफे को बांधे दूल्हे के साथ सूट-बूट पहने बाराती भी विवाह स्थल की ओर दौड़ते नजर आ रहे थे।



यह अनोखी बारात थी शहर के फिजिकल ट्रेनर नीरज मालवीय की। खंडवा नाका स्थित गणेश नगर निवासी नीरज ने दशहरा मैदान से दौड़ना शुरू किया और गंगवाल बस स्टैंड तक दौड़ लगाई। इसके बाद किला मैदान क्षेत्र से संगम नगर तक दौड़ लगाई।

नीरज बताते हैं कि, ‘मैंने लाइफ में कुछ अलग करने का विचार किया था और शादी के लिए बारात दौड़ते हुए ले जाने का प्लान किया। हालांकि घर से बारात पारंपरिक ढंग से घोड़ी पर बैठकर ही निकली, लेकिन सड़क पर आने के बाद दुल्हे ने घोड़ी से उतरकर दौड़ लगाई। बारातियों में अधिकांश ने पीली टीशर्ट पहनी थी, जिसके जरिए इस दौड़ का सार्थक संदेश ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाया जा सके। नीरज ने कहा है कि, ‘अपनी शादी को कुछ अलग बनाना नहीं, बल्कि लोगों को सार्थक संदेश देना भी था। यह संदेश सेहत, स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण और दहेज नहीं लेने का था।’ नीरज के साथ 50 से अधिक बाराती थे और वे भी दौड़ रहे थे।

उन्होंने बताया कि, उनकी पत्नी को इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी। नीरज की इस पहल पर दुल्हन निकिता बिल्लौरे बताती हैं कि, ‘यह मेरे लिए शॉकिंग और स्पेशल फील करने वाले मिक्स इमोशन थे। मैंने कभी नहीं सोचा था कि इस तरह भी मुझे सरप्राइज दिया जाएगा। इस खुशी को शब्दों में जाहिर करना मेरे लिए संभव नहीं है।’

ये भी पढ़े…

शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अनोखी पहल, इस राज्य में सड़क किनारे खोले गए निशुल्क पुस्तकालय

केरल के स्कूलों में अनोखी पहल, बच्चों को पानी पीने की याद दिलाई जा सके, इसलिए दिन में तीन बार बजेगी घंटी

भुवनेश्वर में अनोखी मुहिम, आधा किलो प्लास्टिक के बदले मिलेगा भरपेट भोजन

Related posts