श्रीराम की विजय का प्रतीक है गुड़ी पड़वा, जानिए इस दिन का महत्व और कथा

gudi padwa 2020, gudi padwa ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

चैत्र मास की शुक्‍ल प्रतिपदा को गुड़ी पड़वा या वर्ष प्रतिप्रदा या युगादि के नाम से जाना जाता है। इस बार गुड़ी पड़वा की तिथि 25 मार्च 2020 है। इस दिन हिंदुओं में वसंत ऋतु का शुरू होना माना जाता है और मान्यता है कि इस दिन भगवान ब्रह्मा ने सृष्टि की संरचना की थी। इससे जुड़ी कई कहानियां भी प्रचलित है। आइए जानते हैं ये पर्व कैसे मनाया जाता है और इस पर्व से जुड़ी कथा।



gudi padwa 2020, gudi padwa ka mahatava

गुड़ी पड़वा का महत्व

गुड़ी का अर्थ विजय पताका होता है। माना जाता है कि इस दिन भगवान श्रीराम ने बाली के अत्याचारों से दक्षिण भारत की प्रजा को मुक्ति दिलवाई थी इसलिए इस दिन को महाराष्ट्र और दक्षिण के कुछ प्रांतों के लोग विजय के रूप में मनाते हैं और इसके प्रतीक स्वरूप घर के मुख्य द्वार पर गुड़ी को बांधते हैं। इसलिए इस दिन को गुड़ी पड़वा कहा जाता है। गुड़ी पड़वा के दिन सूर्य देव की पूजा जरूर की जाती है और सूर्य देव को जल अर्पित किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि सूर्य देव की पूजा करने से नया साल अच्छे से गुजर जाता है और शरीर को रोगों से मुक्ति मिल जाती है। इसके साथ ही गुड़ी पड़वा के दिन गुड़, नमक, नीम के फूल, इमली और कच्चे आम का सेवन जरुर किया जाता है। वहीं घर के मुख्य दरवाजे पर अशोक या आम के पत्तों की बंदनवार भी लगाई जाती है। माना जाता है कि बंदनवार लगाने से घर में खुशियों का माहौल बना रहता है और घर में सदा बरकत रहती है।

gudi padwa 2020, gudi padwa ka mahatava

गुड़ी पड़वा से जुड़ी कथा

गुड़ी पड़वा मनाने के पीछे कई सारी कथाएं जुड़ी हुई हैं। एक कथा के मुताबिक, इस दिन सृष्टि का निर्माण हुआ था। ऐसा माना जाता है कि गुड़ी पड़वा के दिन यानी चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ब्रह्माजी ने सृष्टि की रचना का कार्य शुरू किया, जिसके चलते इस दिन को सृष्टि का प्रथम दिन भी कहा जाता हैं। इस दिन से हिंदू कैलेंडर का नया वर्ष भी शुरू हो जाता है।

ये भी पढ़े…

इस दिन से हो रही चैत्र नवरात्रि और हिंदू नववर्ष की शुरुआत, जानें कैसा रहेगा नए साल पर बुध का प्रभाव

गुड़ी पड़वा से होती है हिन्दू नववर्ष की शुरुआत, जानिए इस त्योहार का महत्व

चैत्र नवरात्रि : इस नवरात्रि पर बन रहा शुभ संयोग, जानिए किस दिन होगी कौन-सी देवी की पूजा

Related posts