7 साल बाद गुड़िया सामूहिक दुष्कर्म पर आया फैसला, 2 आरोपी दोषी करार, 30 जनवरी को सजा पर बहस

rape

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली के चर्चित मामलों में से एक गुड़िया सामूहिक दुष्कर्म के मामले में आज कड़कड़डूमा कोर्ट का फैसला आ गया है। कोर्ट ने इस मामले में दोनों आरोपितों प्रदीप और मनोज को दोषी करार दिया है। दोनों की सजा पर 30 जनवरी को सुनवाई होगी।



जानकारी के मुताबिक, कोर्ट ने आरोपी प्रदीप और मनोज को पॉक्सो एक्ट, किडनैपिंग, सामूहिक दुष्कर्म और सबूत मिटाने के मामले में दोषी करार दिया है। बता दें इन दोनों दोषियों ने 5 साल की गुड़िया को 24 घंटे से ज्यादा बंधक बनाकर उसके साथ दुष्कर्म किया था। इस मामले में कुल 59 गवाह थे।

क्या है मामला

यह मामला निर्भया केस के 4 महीने बाद यानी 15 अप्रैल 2013 का है, जब महज 5 वर्षीय गुड़िया को उसी के पड़ोस में रहने वाले मनोज शाह और प्रदीप ने गांधी नगर स्थित घर से अगवा कर लिया था और फिर उसके साथ दुष्कर्म किया था। इसके बाद दोनों ने गुड़िया को जान से मारने की भी कोशिश की गई थी।


17 अप्रैल की सुबह गुड़िया घायल अवस्था में अपने घर के पास मिली थी। इलाज के लिए उसे दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
डॉक्टरों ने गुड़िया के शरीर के अंदर से तेल की शीशी और मोमबत्ती तक निकाली थी। कई दिनों तक गुड़िया की हालत अस्पताल में नाजुक बनी हुई थी। निर्भया सामूहिक दुष्कर्म के बाद दिल्ली में ही बर्बरता से हुए इस रेप पर पुलिस और प्रशासन पर कई सवाल खड़े हुए थे।

ये भी पढ़े…

1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी निर्भया के दोषियों को फांसी, कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट

बरेली की निर्भया को 4 साल बाद मिला इंसाफ, दो दरिंदो को फांसी की सजा का ऐलान

फांसी के आधे घंटे बाद तक लटके रहेंगे निर्भया के दोषी, फंदे पर किया जा रहा मक्खन का इस्तेमाल 

Related posts