सफीन हसन बनेंगे देश के सबसे युवा IPS, पिता करते हैं चाय-अंडे बेचने का काम

safin hasan,gujrat,hasan safin youngest ips officer

चैतन्य भारत न्यूज

बनासकांठा. गुजरात के राजकोट में रहने वाले साफिन हसन आगामी 23 दिसंबर को नया इतिहास रचने जा रहे हैं। वह देश के सबसे युवा आईपीएस अधिकारी होंगे। 22 साल के साफिन हसन राजकोट में हीरा तराशने वाले एक दंपती मुस्तफा और  नसीम्बाणु के बेटे हैं। उनका बचपन बेहद संघर्षपूर्ण रहा। 10वीं तक पढ़ाई के लिए उनकी मां ने दूसरों के घरों में काम किया था।



safin hasan,gujrat,hasan safin youngest ips officer

उत्तर गुजरात में बनासकांठा के पालनपुर तहसील के छोटे से गांव कणोदर में प्राथमिक शिक्षा के बाद हसन इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए सूरत चले गए। इसके बाद हसन ने गुजरात पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास कर जिला रजिस्ट्रार बनने की उपलब्धि हासिल की। मगर हसन के मन में आईपीएस बनने की ललक थी। इसके बाद उन्होंने 570वीं रैंक के साथ पिछले साल आईपीएस की परीक्षा पास की।

safin hasan,gujrat,hasan safin youngest ips officer

जानकारी के मुताबिक, हसन के माता-पिता, मुस्तफा हसन और नसीम्बाणु ने सूरत की एक हीरे की यूनिट में अपनी नौकरी खो दी। जिसके बाद बेटे की शिक्षा के लिए पैसे जुटाना मुश्किल हो गया था। बेटे की पढ़ाई जरूरी थी, ऐसे में उन्होंने हार नहीं मानी। उनके पिता ने एक इलेक्ट्रीशियन के रूप में नौकरी की। उनकी मां परिवार का समर्थन करने के लिए रेस्तरां और मैरिज हॉल में रोटियां बनाने काम करती थी, वहीं इसी के साथ पिता सर्दियों के महीनों में चाय और अंडे बेचते थे।

ऐसे मिली आईपीएस बनने की प्रेरणा

हसन ने अपनी प्राइमरी की पढ़ाई सरकारी स्कूल में रहकर गुजराती मीडियम से की है। हसन के मुताबिक, प्राइमरी स्कूल में वहां के कलेक्टर आए हुए थे तो वहां मौजूद लोग उन्हें देखकर बड़ी तहजीब से पेश आने लगे। जिसे देख मासूम हसन को बड़ा आश्चर्य ही हुआ। अपने आश्चर्य को दूर करने के लिए हसन ने अपनी मौसी से इस बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि कलेक्टर किसी जिले का राजा होता है। कोई भी व्यक्ति अच्छी पढ़ाई करके कलेक्टर बन सकता है। जिसके बाद हसन ने भी कलेक्टर बनने की ठान ली थी।

safin hasan,gujrat,hasan safin youngest ips officer

संघर्ष में बीता बचपन

खबरों के मुताबिक हसन की मां नसीम्बाणु ने बेटे को 10वीं तक पढ़ाने के लिए 14 साल तक लोगों के घरों मे काम किया। हसन ने 10वीं तक गांव में ही पढ़ाई की। उनकी खराब आर्थिक स्थिति देख कर पालनपुर के स्कूल ने 11वीं और 12वीं की फीस माफ कर दी थी। जब इंजीनियरिंग में दाखिला मिला, तो रिश्तेदारों ने फीस भरने में मदद की। यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली जाने के लिए ज्यादा पैसे चाहिए थे, तब गांव के हुसैनभाई और जरीना बेन ने मदद की।

safin hasan,gujrat,hasan safin youngest ips officer

हसन ने बताया कि वह अपने हॉस्टल खर्च के लिए छुट्टियों में बच्चों को पढ़ाते थे। बता दें, जब वह यूपीएससी परीक्षा का हला अटेंप्ट देने जा रहे थे तभी उनका एक्सीडेंट हो गया था। परीक्षा देने गए और एग्जाम देने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। उनका कहना है कि 23 दिसंबर 2019 का दिन मेरा, मेरे माता- पिता के संघर्ष की भरपाई करेगा।

ये भी पढ़े…

रेलवे ने नहीं दी नौकरी तो IAS बनने की ठानी, आज संभाली सब कलेक्टर पद की कमान

महज 12 साल की उम्र में साइंटिस्ट बना ये बच्चा, पिता को दिया श्रेय

7 साल का ये बच्चा सभी अमीरों को पछाड़कर बना अरबपति, फोर्ब्स की लिस्ट में पहले नंबर पर

 

Related posts