जन्म लेते ही गुजर गई बच्ची की मां, न्यायाधीश ने स्तनपान करावाकर लिया गोद

baby girl adopted gujarat

चैतन्य भारत न्यूज

आणंद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में एक जिला विकास अधिकारी और उनकी न्यायाधीश पत्नी ने अनोखी मिसाल पेश की है। आणंद में एक बच्ची को जन्म देने के बाद ही उसकी मां गुजर गई। मां का दूध न मिलने पर बच्ची 14 घंटे तक भूखी रही। जब यह बात जिला विकास अधिकारी की न्यायाधीश पत्नी को पता चली तो उन्होंने न सिर्फ बच्ची को स्तनपान कराया बल्कि उसे गोद भी ले लिया।

3 अगस्त को मां के गुजर जाने के बाद अब बच्ची को पूरा परिवार मिल गया है। आणंद के जिला विकास अधिकारी अमित प्रकाश यादव और उनकी पत्नी चित्रा ने मिलकर नवजात के उज्ज्वल भविष्य की जिम्मेदारी उठाने का फैसला मिलकर लिया। जानकारी के मुताबिक, आणंद के पास स्थित वासद गांव के आरोग्य केंद्र अस्पताल में एक महिला ने अपनी तीसरी बेटी को जन्म दिया और इसके थोड़ी ही देर बाद महिला ने दम तोड़ दिया था। मां की मौत के बाद बच्ची के पिता बेहद दुखी थे। उन्हें यह चिंता सताने लगी थी कि उन्हें दो बेटी पहले से ही हैं और अब तीसरी बेटी का पालन-पोषण कैसे होगा?

जब इस घटना की जानकारी अमित प्रकाश यादव को मिली तो वह तुरंत अस्पताल पहुंच गए। नवजात बच्ची को देख उनका दिल पसीज गया। फिर अमित प्रकाश यादव ने बच्ची के बारे में सभी जानकारी अपनी पत्नी चित्रा को दी। इसके बाद दोनों फिर अस्पताल पहुंचे और यहां चित्रा ने बच्ची को स्तनपान कराया। नवजात की हालत को देखते हुए दोनों ने उसे गोद लेने का फैसला लिया। फिर बच्ची के पिता और परिवार की सहमति से दोनों ने नन्ही-सी जान को गोद ले लिया। बच्ची का जन्म मही नदी के किनारे स्थित वासद गांव के अस्पताल में हुआ था इसलिए उन्होंने बच्ची का नाम ‘माही’ रखा दिया। बता दें चित्रा और अमित प्रकाश यादव का एक डेढ़ साल का बेटा भी है।

Related posts