स्वदेशी तकनीक से बनी देश की पहली ऐसी रिवॉल्वर, जो चलेगी सिर्फ मालिक के इशारों पर, गोलियों का भी रखेगी पूरा हिसाब

gun,special revolver,kanpur,field gun factory

चैतन्य भारत न्यूज

कानपुर. देश में जल्द ही ऐसी रिवॉल्वर आने वाली है जो सिर्फ मालिक की इजाजत से ही चलेगी। यह कृत्रिम बुद्घिमत्ता (एआई) से लैस रिवॉल्वर कानपुर स्थित फील्ड गन फैक्ट्री द्वारा तैयार की गई है। यह रिवॉल्वर एक ऐसे कवर में रखी जाएगी जो सिर्फ उसके मालिक के हाथों से खुलेगा। इसके कवर को भी फील्डगन फैक्ट्री में ही तैयार किया गया है। इस रिवॉल्वर की सबसे खास बात यह है कि, अगर यह चोरी भी हो गई तो इसका पता आपको खुद ही लग जाएगा।

रिवॉल्वर को तैयार करने में अपनाया स्वदेशी तरीका

दरअसल, रिवॉल्वर में एक चिप लगी होगी जिसका लिंक पुलिस के पास रहेगा। साथ ही यह रिवॉल्वर एक-एक गोली का हिसाब खुद रखेगी। रिवॉल्वर से किए गए हमले का पूरा ब्योरा मिल जाएगा। रिवॉल्वर के इस अनोखे कवर को दो युवा वैज्ञानिकों सौरभ और गौरव पिलानिया के साथ फैक्ट्री ने संयुक्त रूप से तैयार किया है। इस रिवॉल्वर को पूरी तरह स्वदेशी तकनीकों का प्रयोग कर बनाया है। रिवॉल्वर का डिजाइन और टेक्नोलॉजी को सौ फीसदी कानपुर में तैयार किया गया है। इसे पिस्टल, शॉटगन और अन्य छोटे हथियारों के लिए लाया जाएगा।

देशी की पहली अनोखी रिवॉल्वर

फील्डगन फैक्ट्री ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंसी से लैस ऐसी देश की पहली रिवॉल्वर तैयार की है। इस रिवॉल्वर के लिए एक खास चिप को डेवलप किया गया है जिससे हथियार का पूरा ब्योरा पता चल जाएगा। इतना ही नहीं बल्कि इस रिवॉल्वर से फायरिंग कब हुई और कहां हुई, ये भी पता चल जाएगा। साथ ही एक-एक गोली का हिसाब-किताब भी आपको मिल जाएगा। इसमें लगे सेंसर बता देंगे कि रिवॉल्वर में कहां खराबी आ रही है। इस रिवॉल्वर की चिप का लिंक पुलिस प्रशासन के पास रहेगी।

मालिक के फिंगरप्रिंट पहचानेगा कवर

साधारण तौर पर रिवॉल्वर में दो तरह के सेफ्टी फीचर होते हैं। एक स्प्रिंग के जरिए लॉक करने का और दूसरा नंबर कोड। अब तीसरे सेफ्टी फीचर का आविष्कार किया है। फिल्ड गन फैक्ट्री के वरिष्ठ महाप्रबंधक अनिल कुमार का कहना है कि, उन्होंने ऐसा रिवॉल्वर का कवर बनाया गया है जो बिना मालिक के फिंगर प्रिंट के नहीं खुलेगा। यानि कि अगर आपका रिवॉल्वर कवर सहित किसी ने छीन लिया या चोरी भी कर लिया तो चोर इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएगा।

Related posts