आज गुप्त नवरात्रि का दूसरा दिन, इस विधि से करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा

gupt navratri,gupt navratri 2020, gupt navratri ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

आज गुप्त नवरात्रि का दूसरा दिन है और इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की उपासना की जाती है। आइए जानते हैं मां ब्रह्मचारिणी की पूजा का महत्व और पूजन-विधि।

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा का महत्व

ब्रह्मचारिणी देवी के हाथों मे अक्षमाला और कमंडल होता है। मां ब्रह्मचारिणी को ज्ञान, तपस्या और वैराग्य की देवी माना जाता है। मां ब्रह्मचारिणी ने भगवान शंकर को पति रूप से प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी और इसलिए वह तपश्चारिणी और ब्रह्मचारिणी के नाम से प्रसिद्ध हैं। ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा करना विद्यार्थियों और तपस्वियों के लिए बेहद शुभ और फलदायी होती है। कहा जाता है कि, जिस भी व्यक्ति का चंद्रमा कमजोर हो, उन्हें मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करना चाहिए।



मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-विधि

  • मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करते समय हमेशा पीले या सफेद वस्त्र धारण करें।
  • मां ब्रह्मचारिणी को सफेद रंग के फूल अथवा वस्तुएं जैसे- मिश्री, शक्कर या पंचामृत अर्पित करें।
  • मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करते समय ज्ञान और वैराग्य के मंत्र का जाप करें।
  • मां ब्रह्मचारिणी के लिए सबसे उत्तम जाप “ॐ ऐं नमः” माना जाता है।
  • मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करते वक्त हाथों में एक सफेद रंग का फूल लेकर देवी का ध्यान करें और फिर इस मंत्र का उच्चारण करें-

ध्यान मंत्र

वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।

जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥

गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।

धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥

परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।

पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

ये भी पढ़े…

आज से शुरू हुई गुप्त नवरात्रि, 9 की बजाय 10 देवियों की होती है साधना, जानिए महत्व और पूजन-विधि

शुक्रवार की शाम इस तरह करें माता लक्ष्मी की पूजा, दूर होगी धन से जुड़ी समस्या

2020 में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरे साल की लिस्ट

Related posts