आज है गुरु पूर्णिमा, अगर नहीं है आपके गुरु तो ऐसे करें उपासना, जानिए पूजा-विधि

guru purnima,guru purnima 2019,guru purnima importance,

चैतन्य भारत न्यूज

आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस साल गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई को मनाई जा रही है। बता दें इसी दिन महर्षि वेदव्यास का जन्म भी हुआ था, जिसके चलते इसे व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस दिन गुरु की पूजा की जाती है। पुराने समय में गुरुकुल में रहने वाले विद्यार्थी गुरु पूर्णिमा के दिन विशेष रूप से अपने गुरु की पूजा-अर्चना करते थे।

guru purnima,guru purnima 2019,guru purnima importance,

आज के ही दिन चंद्रग्रहण भी है। ऐसा 149 साल बाद होने जा रहा है जब गुरु पूर्णिमा के दिन ही चंद्र ग्रहण भी पड़ेगा। गुरु पूर्णिमा के दिन शिष्य अपने गुरुओं को भेंट भी देते हैं। हम आपको बताने जा रहे हैं गुरु की उपासना कैसे करें और अगर आपके गुरु नहीं हैं तो क्या करें?

guru purnima,guru purnima 2019,guru purnima importance,

कैसे करें गुरु की उपासना

  • गुरु पूर्णिमा के दिन सुबह-सवेरे उठकर स्‍नान करने के बाद स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें।
  • गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु को उच्च आसन पर बैठाएं।
  • इसके बाद उनके चरण जल से धुलाएं और पोंछे।
  • उनके चरणों में पीले या सफेद पुष्प अर्पित करें ।
  • इसके बाद उन्हें श्वेत या पीले वस्त्र दें।
  • इसके बाद इस मंत्र का उच्‍चारण करें- ‘गुरुपरंपरासिद्धयर्थं व्यासपूजां करिष्ये’
  • गुरु से अपना दायित्व स्वीकार करने की प्रार्थना करें।

guru purnima,guru purnima 2019,guru purnima importance,

अगर आपके गुरु नहीं हैं तो ऐसे करें उपासना-

  • अगर आपके गुरु का निधन हो गया है तो आप उनकी तस्वीर की विधिवत पूजा कर सकते हैं।
  • इसके अलावा अगर गुरु न हों तो शिव जी को ही गुरु मानकर गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाना चाहिए। मान्यता है कि, हर गुरु के पीछे गुरु सत्ता के रूप में शिव जी ही हैं।
  • आप श्रीकृष्ण को भी गुरु मान सकते हैं।
  • कमल के पुष्प पर बैठे हुए श्रीकृष्ण या शिव जी का ध्यान करें।
  • मानसिक रूप से उनको पुष्प, मिष्ठान तथा दक्षिणा अर्पित करें।
  • इसके बाद स्वयं को शिष्य के रूप में स्वीकार करने की प्रार्थना करें।

 ये भी पढ़े…

16 जुलाई को है गुरु पूर्णिमा, जानिए इस पर्व का महत्व, इन मंत्रों के जाप से पा सकते हैं गुरु का आशीर्वाद

16 जुलाई को है साल का अंतिम चंद्रग्रहण, 149 साल बाद बन रहा है यह दुर्लभ संयोग

जानिए क्यों सावन में की जाती है शिव की पूजा, इस महीने भूलकर भी न करें ये गलतियां

 

Related posts