इस मंदिर में 50 करोड़ के गहनों से हुआ राधा-कृष्ण का श्रृंगार, लाखों की संख्या में दर्शन के लिए आते हैं लोग

gwalior gopal mandir

चैतन्य भारत न्यूज
ग्वालियर. वैसे तो देशभर में भगवान कृष्ण के कई खूबसूरत मंदिर हैं जहां बड़े ही धूमधाम से जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है। लेकिन ग्वालियर का गोपाल मंदिर बड़ा खास है। यहां पर भगवान राधाकृष्ण का श्रृंगार करीब 50 करोड़ रुपए से अधिक के गहनों से किया जाता है जो अपने आप में एक अनूठी बात है।



फूलबाग स्थित गोपाल मंदिर में शुक्रवार को 50 करोड़ 11 लाख रुपए कीमत के गहनों से श्रीकृष्ण का श्रृंगार किया गया। सिंधिया राजवंश के ये प्राचीन गहने मध्यभारत की सरकार के समय ही गोपाल मंदिर को सौंप दिए गए थे। इन बेशकीमती गहनों में हीरे और पन्ना जड़ा है। गहनों को कोषालय से कड़ी सुरक्षा के साथ मंदिर परिसर में लाया गया। फिर गंगाजल से धोने के बाद इन्हें भगवान श्रीकृष्ण को पहनाया। बता दें इन कीमती गहनों से भगवान राधाकृष्ण की प्रतिमा को सुसज्जित करने की परंपरा आजादी के पहले से चली आ रही है। उस वक्त सिंधिया राजपरिवार के लोग व रियासत के मंत्री, दरबारी व आम लोग जन्माष्टमी पर दर्शन करने इस मंदिर में आते थे। उस समय से ही भगवान राधाकृष्ण को इन गहनों से सजाया जा रहा है। आजादी के बाद गोपाल मंदिर और उससे जुड़ी संपत्ति जिला प्रशासन व निगम प्रशासन के अधीन हो गई है।

इन गहनों में हीरे-जवाहरात से जड़ा सोने का मुकुट, पन्ना और सोने का सात लड़ी हार, 249 शुद्ध मोती की माला, हीरे के कंगन, हीरे और सोने की बांसुरी, प्रतिमा का विशालकाय चांदी का छत्र, भगवान श्रीकृष्ण व राधा के झुमके, सोने की नथ, कंठी, चूडियां, 50 किलो चांदी के बर्तन समेत अन्य बहुत से बेशकीमती सामान शामिल हैं। इन सभी आभूषणों की निगरानी के लिए मंदिर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। इस बार भी गोपाल मंदिर में कृष्णा के दर्शन करने लाखों भक्तों के आने की उम्मीद है।

ये भी पढ़े… 

जन्माष्टमी : इस्कॉन मंदिर में कान्हा के लिए बनवाई गई 20 लाख की ज्वेलरी और 3 लाख के वस्त्र, दो दिन चलेगा जन्मोत्सव

जन्माष्टमी 2019 : नटखट कान्हा से जुड़ी ये रोचक बातें जो हर किसी को जानना चाहिए

अनूठी परंपराः बाघों के गढ़ और दहाड़ के बीच जन्माष्टमी मेले में श्रीराम-जानकी के दर्शन

 

 

Related posts