जयंती विशेष: हिन्दी सिनेमा की ‘मदर इंडिया’, ऑस्‍कर तक पहुंच चुकी है फिल्म, कैंसर से हारी थीं जंग

चैतन्य भारत न्यूज

हिन्दी सिनेमा की मशूहर और खूबसूरत अदाकारा नरगिस दत्त का आज जन्मदिन है। नरगिस का जन्म 1 जून 1929 को पश्चिम बंगाल के कलकत्ता शहर में हुआ था। उन्होंने लगभग चार दशकों तक हिन्दी सिनेमा जगत में अपने अभिनय की खुशबू बिखेरी। नरगिस को बॉलीवुड की ‘मदर इंडिया’ के नाम से भी जाना जाता है। जन्मदिन के इस खास मौके पर आइए जानते हैं नरगिस से जुड़ी खास बातें-

नरगिस का असली नाम फातिमा राशिद था। लेकिन लोग उन्हें नरगिस के नाम से जानते हैं। नरगिस के पिता उत्तमचंद मोहनदास एक जाने-माने डॉक्टर थे। उनकी मां जद्दनबाई मशहूर नर्तक और गायिका थी। मां के सहयोग से ही नरगिस फिल्मों से जुड़ीं और उनके करियर की शुरुआत हुई फिल्म ‘तलाश-ए-हक’ से, जिसमें उन्होंने बतौर बाल कलाकार काम किया था। उस समय उनकी उम्र महज 6 साल की थी। इस फिल्म के बाद वो बेबी नरगिस के नाम से मशहूर हो गईं थीं।

अपनी पहली फिल्म में ही उन्होंने ऐसा अभिनय किया कि उनके पास फिल्मों की लाइन लग गयी। 1940 और 50 के दशक में नरगिस को कई बड़ी हिंदी फिल्में मिली। इन फिल्मों में मुख्य रूप से ‘चोरी- चोरी’, ‘आवारा’, ‘श्री 420’, ‘अंदाज’, ‘अनहोनी’, ‘जोगन’, ‘रात और दिन’, ‘अदालत’, ‘घर संसार’, ‘परदेसी’, ‘धुन’, ‘पापी’, ‘मदर इंडिया’ और बरसात जैसी फिल्में थी। इन फिल्मों में अभिनय के लिए उन्हें खूब सराहा गया।

नगरिस की जिदंगी में सुनील दत्त फिल्म ‘मदर इंडिया’ की शूटिंग के दौरान आए। ‘मदर इंडिया’ की शूटिंग के दौरान जब सेट पर अचानक से आग लग गई तो नरगिस उसमें फंस गई थीं। तब अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए सुनील दत्त ने उन्हें बचाया था। इसी के बाद से ही दोनों में प्यार की शुरुआत हुई और दोनों करीब आने लगे। बाद में उन्होंने शादी कर ली थी। नरगिस और सुनील दत्त के तीन बच्चे- संजय दत्त, प्रिय दत्त और नम्रता दत्त हैं। नरगिस को साल 1967 में ‘रात और दिन’ के लिए राष्ट्रीय फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला था। यह पहला मौका था जब किसी अभिनेत्री को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उनकी फिल्म ‘मदर इंडिया’ ऑस्कर के लिए चयनित हुई थी।

कैंसर से हारीं जंग

नरगिस ने फिल्मों के अलावा सामाजिक कार्य में भी अपनी एक अलग पहचान बनाई उन्होंने मानसिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए भी काम किया। कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझते हुए नरगिस कोमा में चली गयीं थीं। 3 मई 1981 को मुंबई में उनका निधन हुआ था।

Related posts