जन्मदिन विशेष: जानिए लालू यादव का नाम कैसे पड़ा लालू ? सीएम बनने के बाद भी चपरासी क्वार्टर में रहते थे

चैतन्य भारत न्यूज

लालू प्रसाद यादव का जन्मदिन है और आज वह 72 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 11 जून 1948 को बिहार के गोपालगंज में हुआ था। बिहार पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव इस समय चारा घोटाले के चार मामलों में बिरसा मुंडा जेल, रांची में सजा काट रहे हैं। हालांकि, वे खराब स्वास्थ्य के चलते रांची के रिम्‍स असपताल में भर्ती हैं। लालू की जिंदगी से कई किस्से जुड़े हुए हैं जिनके बारे में हम आपको आज बता रहे हैं।

कैसे पड़ा लालू नाम

लालू प्रसाद यादव की बहन गंगोत्री देवी ने एक बार बताया था कि लालू प्रसाद यादव का नाम ‘लालू’ कैसे पड़ा? गंगोत्री देवी ने बताया कि लालू प्रसाद यादव बचपन में बहुत गोरे और गोल मटोल थे। परिवार में भाइयों में सबसे छोटे थे। यही वजह रही कि लालू यादव के पिता कुंदन राय ने उनका नाम लालू रख दिया।

सीएम बनने के बाद भी चपरासी क्वार्टर में रहे

लालू प्रसाद यादव का बचपन बेहद गरीबी में बीता। उनके पिता कुंदन राय खेतिहर मजदूर थे। लालू यादव के बड़े भाई की चपरासी में नौकरी लगी, जिसके बाद लालू प्रसाद यादव भी अपने भाई के साथ चपरासी क्वार्टर में रहने लगे। हैरानी वाली बात यह है कि बिहार के मुख्यमंत्री बनने के बाद करीब 4 महीने तक भी लालू यादव उसी चपरासी क्वार्टर में रहे।

कानून के नाम पर रखा बेटी का नाम

लालू प्रसाद यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती हैं। लेकिन मीसा के जन्म और उनके नाम से एक किस्सा जुड़ा हुआ है। दरअसल जब मीसा का जन्म हुआ, उस वक्त देश में इमरजेंसी लगी हुई थी। लालू यादव इमरजेंसी के दौरान मेंटिनेंस ऑफ इंटरनल सिक्योरिटी एक्ट (MISA) के तहत जेल में बंद थे। यही वजह रही कि जब लालू यादव की बेटी का जन्म हुआ तो उन्होंने बेटी का नाम MISA कानून के तहत मीसा रख दिया।

गरीब सम्मान दिवस के रूप में मानेगा जन्मदिन 

कोरोना संक्रमण की वजह से इस बार राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन के मौके पर केक नहीं काटेगा। राजद ने जन्मदिन 11 जून को गरीब सम्मान दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया है। इस अवसर पर पार्टी सूबे के 73 हजार गरीब परिवारों को भोजन कराएगी। प्रत्येक प्रखंड में कम से कम 151 गरीब परिवारों को भोजन कराए जाने का लक्ष्य रखा गया है।

 

Related posts