जन्मदिन विशेष: 16 साल की उम्र में सीता बनकर घर-घर पहुंची थीं दीपिका चिखलिया, राजीव गांधी भी बुला चुके हैं दावत पर

चैतन्य भारत न्यूज

रामानंद सागर के निर्देशन में बने धारावाहिक ‘रामायण’ में सीता का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री दीपिका चिखलिया का आज 55वां जन्मदिन है। दीपिका को बेहद कम उम्र में ही बड़ी कामयाबी मिली और रामायण में सीता का किरदार निभाने के लिए वो आज भी याद की जाती हैं। जन्मदिन के इस खास मौके पर आइए जानते हैं दीपिका से जुड़ी कुछ खास बातें-

  • दीपिका का जन्म 29 अप्रैल 1965 को महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में हुआ था।
  • दीपिका को बचपन से ही अभिनय का शौक था। वह अपने स्कूल में भी हमेशा छोटे-मोटे नाटकों में भाग ले लिया करती थीं।
  • दीपिका को अपने करियर की पहली फिल्म राजश्री प्रोडक्शन की मिली।

  • 1983 में दीपिका को सबसे पहले राज किरण के साथ फिल्म ‘सुन मेरी लैला’ में मुख्य अभिनेत्री के तौर पर देखा गया।
  • राजश्री प्रोडक्शन ने दीपिका को अपने ही एक धारावाहिक ‘पेइंग गेस्ट’ के एक एपिसोड में काम करने के लिए पूछा तो दीपिका ने हां कर दिया। इस धारावाहिक के बाद दीपिका के पास दूसरे टीवी शोज की लाइन लग गई थी।

  • फिर दीपिका ने रामानंद सागर के धारावाहिक ‘विक्रम बेताल’ में शानदार काम किया। इस धारावाहिक में दीपिका ने इतना काम किया कि फिर वो रामानंद सागर की सबसे पसंदीदा अभिनेत्रियों में से एक बन गईं।
  • उस दौर में मीडिया में उनकी छवि ऐसी बन गई थी कि उन्हें टीवी शोज की रानी कहा जाने लगा था।
  • फिर दीपिका का चयन ‘रामायण’ में सीता के किरदार के लिए हुआ।

ramayan

  • रामायण में सीता के किरदार के लिए लगभग 25 कलाकारों ने एक साथ स्क्रीन टेस्ट दिया था। लेकिन अंत में दीपिका का चयन हुआ।
  • सीता का किरदार दीपिका की जिंदगी में अब तक का सबसे बड़ा काम रहा। इस किरदार को निभाने के बाद उन्हें भारत के घर-घर में जाना जाने लगा।
  • रामानंद सागर की रामायण में अभिनय के समय दीपिका चिखलिया की उम्र महज 16 साल थी।
  • इस किरदार को निभाने के बाद उनकी लोकप्रियता इतनी ऊपर हो गई कि उस समय के भारत के प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने उन्हें खुद अपने यहां दावत पर बुलाया।

  • टीवी सीरीयलों में काम करने के अलावा दीपिका चिखलिया ने कई बॉलीवुड फिल्मों में भी काम कर चुकी हैं।
  • दीपिका ने साल 1983 में फिल्म ‘सुन मेरी लैला’ से अपना फिल्मी सफर शुरू किया था। इसके बाद वह ‘भगवान दादा’ (1986), ‘आशा ओ भालोबाशा’ (बंगाली, 1989), ‘खुदाई’ (1994), जैसी फिल्मों में नजर आईं। वह ‘चीख’ (1986),’रात के अंधेर में’ (1987) और ‘नांगल’ (तमिल, 1992) जैसी बी ग्रेड फिल्मों में बतौर एक्ट्रेस काम किया था।
  • दीपिका अचानक से टीवी से गायब हो गई थी हालांकि उन्होंने साल 2017 में एक बार फिर से छोटे परदे के शो में वापसी की थी। उनकी ये वापसी 25 साल बाद हुई थी। वो गुजराती टीवी शो ‘छुटा छेड़ा में नजर आईं थीं।

  • टीवी और फिल्मों में काम करने के अलावा दीपिका ने अपनी उपस्थिति भारतीय राजनीति में भी दर्ज कराई।
  • साल 1991 में उन्होंने बीजेपी की ओर से गुजरात के वड़ोदरा सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा। उन चुनावों में उन्होंने राजा रणजीत सिंह गायकवाड को 50 हजार वोटों से मात दी थी।
  • वहीं दीपिका की पर्सनल लाइफ की बात करें तो उन्होंने एक बिजनेस मैन हेमंत टोपीवाला से शादी की थी। हेमंत ‘श्रृंगार बिंदी’ और ‘टिप्स एंड टोज’ नेलपॉलिश के मालिक हैं। दीपिका और हेमंत की दो बेटियां निधि और जूही हैं।

 

Related posts