माता पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए रखा था ये कठोर व्रत, इस कथा के बिना अधूरी रहेगी हरतालिका तीज

hartalika teej,hartalika teej vrat katha,hartalika teej ka mahatv,hartalika teej vrat,hartalika teej 2019

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म में हरतालिका तीज व्रत का बड़ा महत्व है। इस दिन विवाहित महिलाएं पति की लंबी उम्र और सौभाग्य की कामना के लिए व्रत रखती हैं। वहीं कुंवारी लड़कियां अच्छे वर की प्राप्ति के लिए व्रत रखती हैं। यह पूजा रातभर चलती है इसलिए इस दौरान महिलाएं पूरी रात भजन-कीर्तन करती हैं।

hartalika teej,hartalika teej vrat katha,hartalika teej ka mahatv,hartalika teej vrat,hartalika teej 2019

कहा जाता है कि भगवान शिव को पाने के लिए माता पार्वती ने भादो मास में शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि यानी हरतालिका तीज का कठोर व्रत रखा था। इस व्रत को रखने से सुहागिन महिलाओं को माता पार्वती से अखंड सौभाग्‍यवती रहने का वरदान प्राप्‍त होता है। इस दिन माता पार्वती की हरतालिका तीज व्रत कथा सुनना काफी महत्वपूर्ण माना गया है।

hartalika teej,hartalika teej vrat katha,hartalika teej ka mahatv,hartalika teej vrat,hartalika teej 2019

हरतालिका तीज व्रत कथा

पौराणिक कथा के मुताबिक, मां पार्वती शिव जी को अपने पति के रूप में पाने की कोशिश कई जन्‍मों से कर रही थीं। इसके लिए मां पार्वती ने हिमालय पर्वत के गंगा तट पर बाल अवस्था में अधोमुखी होकर तपस्या भी की। मां पार्वती ने इस तपस्या के दौरान अन्न और जल का पूरी तरह से त्‍याग कर दिया था। उनको इस हालत में देख कर उनके परिवार वाले बड़े चिंतित थे। फिर एक दिन नारद मुनि विष्णु जी की ओर से पार्वती माता के विवाह का प्रस्ताव लेकर उनके पिता के पास गए। उनके पिता तुरंत मान गए लेकिन जब मां पार्वती को यह ज्ञात हुआ तो उनका मन काफी दुखी हुआ और वे रोने लगीं।

hartalika teej,hartalika teej vrat katha,hartalika teej ka mahatv,hartalika teej vrat,hartalika teej 2019

मां पार्वती को इस पीड़ा से गुजरता देख एक सखी ने उनकी माता से कारण पूछा। देवी पार्वती की माता ने बताया कि पार्वती शिव जी को पाने के लिए तप कर रही हैं लेकिन उनके पिता उनका विवाह विष्णु जी से करना चाहते हैं। पूरी बात जानने के बाद सखी ने मां पार्वती को एक वन में जाने की सलाह दी। मां पार्वती सखी की सलाह मानते हुए वन में जाकर शिव जी की तपस्या में लीन हो गईं। भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की तृतीया को मां पार्वती ने रेत से शिवलिंग बनाया और शिव स्तुति की। मां पार्वती ने रात भर शिव जी के लिए जागरण किया। काफी कठोर तपस्या के बाद शिव जी ने मां पार्वती को दर्शन देकर उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया।

ये भी पढ़े…

इस बार दो दिन है हरतालिका तीज, जानिए किस दिन व्रत करना होगा शुभ

हरतालिका तीज पर इस विधि से करें पूजा-अर्चना, प्राप्त होगा अखंड सौभाग्य

गणेश चतुर्थी : इन चीजों को अर्पित करने से खुश होते हैं बप्पा, पूरी होती है सभी मनोकामनाएं

Related posts