हरियाणा ने शुरू की नई मुहिम, कृत्रिम गर्भाधान से अब केवल बछियों को ही जन्म देंगी गाएं

haryana,sex simon,haryana sarkar,pashu palan vibhag

चैतन्य भारत न्यूज

चंडीगढ़. हरियाणा में एक नई मुहिम शुरू की गई जिसके जरिए गाएं अब बछड़ों के बजाय केवल बछिया ही पैदा करेंगी। इतना ही नहीं बल्कि पशुपालन विभाग ने इसका सफल ट्रायल करने के बाद पूरे प्रदेश में इसे लागू कर दिया है। दरअसल हरियाणा में बछड़े मुसीबत बने हुए हैं। ये किसानों की फसल के साथ-साथ लोगों के लिए भी खतरनाक साबित हो रहे हैं। इसलिए हरियाणा में गाएं अब कृत्रिम गर्भाधान की मदद से केवल बछिया ही पैदा करेंगी।

बता दें पहले बैल के रूप में इनका इस्तेमाल होता था लेकिन अब खेती करने के लिए ज्यादातर लोग ट्रैक्टर का इस्तेमाल करने लगे हैं, जिसके चलते इन्हें छोड़ देते हैं। जानकारी के मुताबिक, कुछ समय पहले बछड़ों की समस्या का समाधान करने के लिए इन्हें मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र समेत उन राज्यों में भेजने की भी योजना बनाई थी जहां अब भी बैलों की मदद से खेती की जाती है। लेकिन यह योजना काम नहीं कर पाई।

इस साल ढाई लाख गायों का लक्ष्य

सरकार ने साल 2019-20 में करीब 2.50 लाख गायों को कृत्रिम गर्भधारण का लक्ष्य निर्धारित किया है। जानकारी के मुताबिक, अब तक विभाग द्वारा 69 हजार से अधिक कृत्रिम गर्भधारण के लिए सीमन खरीदकर प्रदेशभर के पशु को अस्पतालों में पहुंचाया जा चुका है। इतना ही नहीं बल्कि, इनमें से 12 हजार गायों का कृत्रिम गर्भधारण भी किया जा चुका है।

उपयोगी नस्लों को बढ़ाने पर जोर 

हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के प्रबंध निदेशक डॉक्टर वीरेंद्र सिंह के मुताबिक, हरियाणा सरकार द्वारा बछड़ों व बैलों की संख्या कम करने और दुधारू पशुओं की उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए 2.50 लाख सेक्स सीमन खरीदें गए हैं। जिनमें 1.25 लाख अमरीकी हॉलस्टन फ्रीजियन और बाकि 1.25 लाख साहीवाल गाय, थार, फाइकर व हरियाणा नस्ल के हैं।

इस वजह से सड़क पर आते हैं पशु

पशु चिकित्सा डॉक्टर भारत भूषण सुनेजा का कहना है कि, लोगों को नर पशु की उपयोगिता न होने के कारण उन्हें छोड़ दिया जाता है वहीं मादा के मामले में जब वे दूध देना कम या बंद कर देती हैं तो उन्हें छोड़ दिया जाता है। यही वजह है कि, छुट्टा बैल-बछड़े फसलों को बर्बाद करते हैं। इसी समस्या से निजात पाने के लिए राज्य सरकार ने पूरे राज्य में ये योजना लागू की है।

यह भी पढ़े..

इस भैंस के गर्भवती होने पर पूरा छत्तीसगढ़ मना रहा है जश्न, जानिए वजह

 

Related posts