राफेल मामले में सुनवाईः अटॉर्नी जनरल बोले जो दस्तावेज अखबारों में छपे वे रक्षा मंत्रालय से चोरी हुए

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली। राफेल को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को बहस हुई। बहस के दौरान वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने सरकार पर जानकारी छुपाने का आरोप लगाया तो वहीं सरकारी पक्ष ने ऑफीशियल सीक्रेट एक्ट के उल्लंघन का आरोप लगा। इस मामले में केंद्र सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि जिन डॉक्यूमेंट को अखबार ने छापा है, वह रक्षा मंत्रालय से चोरी हुए थे। हम इसकी आंतरिक जांच कर रहे हैं।

जस्टिस केएम जोसेफ ने सुनवाई के दौरान कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर सबूत पुख्ता हैं और भ्रष्टाचार हुआ है तो जांच जरूर होनी चाहिए।

सरकार ने कहा चोरी हुए राफेल के कागज

अटॉर्नी जनरल ने कहा कि कुछ डॉक्यूमेंट्स रक्षा मंत्रालय से चोरी किए और आगे बढ़ाए गए। उन्होंने कहा कि ये केस काफी अहम है। केके वेणुगोपाल का कहना है कि जिन गोपनीय दस्तावेजों को अखबार ने छापा है उसको लेकर कार्रवाई होनी चाहिए।

भ्रष्टाचार हुआ है तो जांच होनी चाहिए

जस्टिस केएम जोसेफ ने सुनवाई के दौरान केके वेणुगोपाल से कहा कि हमें सबूतों की जांच करनी होगी।क्या आप कह रहे हैं कि भ्रष्टाचार की जांच सिर्फ इसलिए ना हो कि सोर्स असंवैधानिक है। उन्होंने कहा कि चोरी किए गए सबूत भी महत्वपूर्ण हैं, इसकी जांच होना जरूरी है।

Related posts