हिंगोट युद्ध : एक ऐसी परंपरा जिसमें खेला जाता है खूनी खेल, घायल होते हैं कई लोग

hingot war,hingot,hingot yuddh,indore,madhyapradesh,gautampura

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. मध्यप्रदेश के इंदौर शहर के पास गौतमपुरा में दिवाली के दूसरे दिन यानी गोवर्धन पूजा पर ‘हिंगोट युद्ध खेला’ जाता है। इस पारंपरिक युद्ध में प्रयोग किया जाने वाले हथियार हिंगोट होता है, जो कि एक जंगली फल है। आइए जानते हैं हिंगोट युद्ध के बारे में।



hingot war,hingot,hingot yuddh,indore,madhyapradesh,gautampura

क्या है हिंगोट?

हिंगोट एक फल है, जो हिंगोरिया नाम के पेड़ पर लगता है। आंवले के आकार वाले फल से गूदा निकालकर इसे खोखला कर लिया जाता है। इसके बाद हिंगोट को सुखाकर इसमें खास तरीके से बारूद भरी जाती है। नतीजतन आग लगाते ही यह रॉकेट जैसे पटाखे की तरह बेहद तेज गति से छूटता है और लंबी दूरी तय करता है।

hingot war,hingot,hingot yuddh,indore,madhyapradesh,gautampura

लंबे समय से है यह परंपरा

स्थानीय लोगों का कहना है कि गौतमपुरा के लड़ाके सालों पहले मुगलों से गांवो को बचाने के लिए उनकी सेना पर इस तरह के प्रहार करते थे, इसके बाद से ही यह परंपरा चली आ रही है। पुरानी यादों के साथ ही धीरे-धीरे ग्रामीणों की आस्था जुड़ गई।

hingot war,hingot,hingot yuddh,indore,madhyapradesh,gautampura

यहां के बुजुर्गों के मुताबिक, हिंगोट युद्ध एक किस्म के अभ्यास के रूप में शुरू हुआ था और कालांतर में इससे धार्मिक मान्यताएं जुड़ती चली गईं। हिंगोट के समय गांव में उत्सव का माहौल रहता है। यहां आने वाले दर्शकों के बैठने के लिए उत्तम व्यवस्थाएं की जाती हैं। हजारों दर्शकों की मौजूदगी में होने वाले इस ‘हिंगोट युद्ध’ में हर साल कई लोग घायल होते हैं।

ये भी पढ़े…

इस बार दिवाली पर बन रहा है शुभ संयोग, जानिए मां लक्ष्मी की पूजा का मुहूर्त

ये हैं धनतेरस से भाई दूज तक की महत्वपूर्ण तिथि, शुभ फल प्राप्ति के लिए इस मुहूर्त में करें पूजा

दिवाली से पहले इन 9 चीजों को घर लाने से होगा लाभ

Related posts