गंगा दशहरा पर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

ganga river,dip in ganga,ganga mata,ganga river,ganga dussehra

चैतन्य भारत न्यूज

बुधवार को गंगा दशहरा के खास अवसर पर श्रद्धालुओं ने हजारों की संख्या में गंगा नदी में आस्था की डूबकी लगाई। बनारस, हरिद्वार, ऋषिकेश समेत और भी जगह लोगों ने मां गंगा की पूजा अर्चना की और अपने परिवार के लिए मंगल कामनाएं भी की।

बता दें ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है। इस दिन मां गंगा स्वर्ग से धरती पर उतरीं थीं। इसलिए गंगा दशहरा पर गंगा नदी में स्नान करने का विशेष महत्व होता है। कहते हैं कि गंगा दशहरा पर किसी पवित्र नदी में स्नान करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। गंगा के घाटों पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का स्नान करने के लिए तांता लगा हुआ है। गंगा दशहरा पर स्नान के पश्चात् दान-पुण्य करने का विशेष महत्व होता है। नदी में डुबकी लगाने के बाद लोगों ने गंगा किनारे पूजन और हवन भी किया।

गंगा दशहरा पूजा-विधि

  • सबसे पहले गंगा नदी में स्नान करें।
  • स्नान के दौरान ‘ऊँ नमः शिवायै नारायण्यै दशहरायै गंगायै नमः’ मंत्र का जाप करें।
  • फिर ‘ऊँ नमः शिवायै नारायण्यै दशहरायै गंगायै स्वाहा’ करके हवन करे।
  • इस मंत्र के बाद ‘ ऊँ नमो भगवति ऐं ह्रीं श्रीं (वाक्-काम-मायामयि) हिलि हिलि मिलि मिलि गंगे मां पावय पावय स्वाहा।’ इस मंत्र से पांच पुष्पांजलि अर्पण करके भगीरथ हिमालय के नाम पूजन करें।
  • पूजा के बाद 10 दीपक, 10 फल और 10 सेर तिल का ‘गंगायै नमः’ मंत्र कहकर दान करें।
  • सत्तू और गुड़ के पिण्ड जल में डालें।
  • पूजा 10 सेर तिल, 10 सेर जौ, 10 सेर गेहूं 10 ब्राह्मणों को दें।

ये भी पढ़े… 

गंगा दशहरा 2019 : 75 साल बाद बन रहा यह खास दस दिव्य योग, इस एक उपाय से मिलेगी 10 पापों से मुक्ति

गंगा दशहरा : इन 10 पापों का नाश करती है गंगा माता, जानिए इस दिन का महत्व

Related posts