महाराष्ट्र में ऑनर किलिंगः युवती और पति को जिंदा जलाया, युवती की मौत, युवक गंभीर

चैतन्य भारत न्यूज।

अहमदनगर (महाराष्ट्र)। अंतरजातीय विवाह से नाराज युवती के परिजनों ने यहां उसे और उसके पति को जिंदा जला लिया। रविवार को पुणे के अस्पताल में युवती की मौत हो गई। जबकि उसका पति 40% तक झुलस गया है और वह जिंदगी के लिए संघर्ष कर रहा है। अहमदनगर के परनेर जिले के निगहोज गांव में यह मामला सामने आया है। युवती रुक्मणि अनुसूचित जाति (एससी) की पासी जाति की थी और उससे विवाह करने वाला मंगेश अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लौहार जाति का है। दोनों ने छह महीने पहले ही शादी की थी। रुक्मणि को दो माह का गर्भ भी था।

अहमदनगर पुलिस ने सोमवार को बताया कि यह एक ऑनर किलिंग का मामला है। जांच करने वाले पारनेर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर विजयकुमार बोत्रे ने बताया कि 23 वर्षीय मंगेश चंद्रकांत राणासिंह और उसकी पत्नी रुक्मणि भारतीय (23) ने करीब 6 महीने पहले अहमदनगर के निगहोज गांव में शादी की थी। दोनों की जाति अलग-अलग थी, इससे परिजनों में नाराजगी थी।

युवती के परिजनों ने कमरे में बंदकर आग लगा दी

पुलिस ने बताया कि 28 अप्रैल को रुक्मणि परिवार से मिलने निगहोज गांव आई थी। 01 मई को मंगेश उसे अपने गांव ले जाने के लिए आया। आरोप के मुताबिक युवती के पिता रामा भारतीय, चाचा सुरेंद्र कुमार और मामा घनश्याम रानेज ने दोनों को एक कमरे में बंद कर दिया और आग लगा दी। चीख-पुकार सुनकर पड़ोसियों ने दोनों को बचाया और पुलिस को सूचना दी, इस बीच सभी आरोपी भाग निकले।

दो चाचा गिरफ्तार, पिता फरार

पुलिस ने आरोपी रुक्मणि के दो चाचा सुरेंद्र और घनश्याम को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, मृतका का पिता रामा भारतीय फरार है। उसकी तलाश की जा रही है।

रुक्मणि के पिता और अन्य परिवार वाले इस शादी के खिलाफ थे लेकिन मंगेश के परिवार के लोगों ने दोनों के रिश्ते को स्वीकार किया था और शादी के लिए रजामंदी दी थी। रुक्मणि के देवर महेश के मुताबिक भाभी के घरवाले अकसर धमकियां दिया करते ते। शादी में भी उनकी मां ही शामिल हुई थी। धमकी के संबंध में कई बार पुलिस को भी शिकायत की गई थी।{

Related posts