कोरोना वायरस के कारण चीन ने बंद किया दवा सप्लाई, भारत में बचा अप्रैल तक का स्टॉक, गंभीर संकट की संभावना

medicine

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. पड़ोसी देश चीन में पिछले कई दिनों से खतरनाक कोरोना वायरस का कहर जारी है। अब तक कोरोना वायरस की चपेट में आकर चीन के अलग-अलग हिस्सों में कुल 1310 लोगों की मौत हो चुकी है। चीन में फैले इस वायरस के कारण भारत में दवाओं का गंभीर संकट पैदा हो सकता है।



दरअसल, भारत में चीन से 80% एपीआई (दवा बनाने का कच्चा माल) आता है। इसके अलावा चीन से करीब 57 तरह के मॉलिक्यूल्स आते हैं। भारत 19 तरह के दवाओं के कच्चे माल के लिए पूरी तरह से चीन पर ही निर्भर है। जनवरी में चीन में छुट्टियां चल रही थी, इसलिए उस समय भी कच्चा माल कम आया था। उसके बाद ही कोरोना वायरस फैल गया और फिर चीन में उत्पादन को तत्काल रोक दिया गया। ऐसे में सप्लाई एक महीने से ठप पड़ा है।

सूत्रों के मुताबिक, भारत के पास फिलहाल अप्रैल तक की दवा का स्टॉक बचा है। दवाओं की कीमत में ज्यादा बढ़ोतरी न हो और कम स्टॉक की स्थिति को कैसे निपटा जाए, इसके लिए सरकार ने एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी में 8 अहम तकनीकी विभागों के विशेषज्ञ शामिल किए गए हैं। कमेटी ने अपनी एक प्राथमिक रिपोर्ट भी सरकार को सौंप दी है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, यदि चीन से अगले महीने तक कच्चे माल का सप्लाई शुरू नहीं हुआ तो गंभीर हालात पैदा हो सकते हैं।

जानकारों का कहना है कि चीन की स्थिति सामान्य होने के बाद जब उद्योग शुरू होंगे तो समुद्री रास्ते से भारत तक दवा पहुंचने में भी कम से कम 20 दिन तो लगेंगे। उच्चस्तरीय सूत्र ने कहा है कि दवाओं की कमी न हो इसके लिए सरकार दवाओं के निर्यात पर रोक लगा सकती है। बता दें भारत से हर साल अलग-अलग देशों में 1.3 लाख करोड़ रुपए की दवा निर्यात की जाती है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि, ‘यदि चीन में हालात नहीं सुधरे तो भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई दूसरे देशों में भी चीन से ही एपीआई मंगाई जाती है। ऐसे में यह पूरी दुनिया के लिए एक गंभीर समस्या बन सकती है।

ये भी पढ़े… 

चीन से आए 5 लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण, सैन्य अस्पताल में किया गया भर्ती

थाईलैंड ने HIV की दवा से बनाई कोरोना वायरस से लड़ने की नई दवा, 48 घंटे में 90% ठीक हुआ मरीज

चीन से आए 5 लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण, सैन्य अस्पताल में किया गया भर्ती

 

Related posts