दुश्मन को बिना भनक लगे लद्दाख पहुंच सकेगी सेनाएं, नई सड़क बना रहा भारत

चैतन्य भारत न्यूज

देश की सेना लद्दाख में अब बिना दुश्मनों की नजर में आए अपनी गतिविधियों को अंजाम दे सकेगी। लद्दाख बॉर्डर पर सेनाओं को जल्दी पहुंचाने के लिए भारत एक नई सड़क का निर्माण कर रहा है। यह सड़क मनाली से लेह तक बनाई जाएगी जो ऊंचाई वाले इस पहाड़ी केंद्रशासित प्रदेश को बाकी देश से जोड़ने वाली तीसरी लिंक होगी।

पुराने रास्ते से लगेगा कम समय

न्यूज एजेंसी एएनआई पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत लद्दाख के अन्य सेक्टर्स की कनेक्टिविटी भी बेहतर करने के लिए तेजी के साथ काम कर रहा है। रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण इलाकों में सेना के जल्दी पहुंचने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है। सरकार के एक सूत्र ने कहा है कि, ‘मनाली से लेह तक वैकल्पिक कनेक्टिविटी के लिए एजेंसियां काम कर रही है। नए रास्ते के जरिए सेनाओं का लद्दाख पहुंचने में समय बचेगा। अभी तक श्रीनगर के जोजिला पास और अन्य रास्तों के जरिए सेनाएं लद्दाख का रास्ता तय करती थीं। इस सड़क से कम से तीन से चार घंटे का वक्त बचेगा। वहीं, सैनिकों और भारी हथियारों की तैनाती करते वक्त पाकिस्तानी और अन्य दुश्मन ताकतों के लिए भारतीय सेना की गतिविधियों पर नजर रख सकने की भी कोई सूरत नहीं होगी।’

1999 में करगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानियों ने बनाया था निशाना

बता दें अभी तक वस्तुओं और लोगों के लेह जाने के लिए जिस मार्ग का प्रमुख रूप से इस्तेमाल होता है वह जोजिला से जाता है। यह मार्ग द्रास-करगिल एक्सिस होते हुए लेह तक पहुंचाता है। गौरतलब है मौजूदा द्रास-करगिल-लेह के रास्ते को पाकिस्तानियों द्वार 1999 के करगिल युद्ध के समय निशाना बनाया गया था। इस इलाके में उस समय पाकिस्तान की तरफ से कई बार बमबारी की गई थी। सूत्रों का कहना है कि नई सड़क का काम शुरू भी किया जा चुका है।

Related posts