आर्थिक बदहाली से परेशान होकर इस पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने कर ली आत्महत्या, 56 गेंदों में जड़ा था शतक

vb chandrasekhar

चैतन्य भारत न्यूज

चेन्नई. भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज वीबी चंद्रशेखर ने गुरुवार शाम अपने घर में आत्महत्या कर ली। इसकी जानकारी पुलिस ने दी है। चंद्रशेखर की डेड बॉडी तमिलनाडु के मायलापुर स्थित उनके घर के पहले फ्लोर पर बने बेडरूम में पंखे पर लटकी हुई मिली।

जांच अधिकारी परीक्षक सेंथिल मुरुगन के मुताबिक, 57 वर्षीय चंद्रशेखर ने कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है। चंद्रशेखर की पत्नी ने बताया कि, उन्होंने कमरे का दरवाजा खटखटाया लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद जब उन्होंने खिड़की से झांका तो देखा कि चंद्रशेखर पंखे से लटके हुए हैं। बता दें पहले यह कहा जा रहा था कि उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई है, लेकिन बाद में पुलिस ने उनकी आत्महत्या की पुष्टि कर दी।

चंद्रशेखर की पत्नी सौम्या के मुताबिक, उन्होंने परिवार के साथ चाय पी और फिर शाम करीब 5:45 बजे वह अपने कमरे में चले गए। चंद्रशेखर को अपने क्रिकेट बिजनेस में नुकसान हुआ था जिससे वह काफी निराश थे। बता दें चंद्रशेखर ने तमिलनाडु प्रीमियर लीग की टीम वीबी कांची वीरंस का मालिकाना हक रखा था। साथ ही वह वेलाचेरी में क्रिकेट अकादमी भी चलाते थे।

चंद्रशेखर ने भारतीय टीम की ओर से 7 वनडे मैच में खेले हैं। वह अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे। 1998 में ईरानी ट्रॉफी मुकाबले में उन्होंने 56 गेंदों में शतक जमाया था। उस मैच में वह 119 रन बनाकर आउट हुए थे। चंद्रशेखर के नाम यह सबसे तेज शतक लगाने का रिकॉर्ड था, जिसे साल 2016 में युवा बल्लेबाज रिषभ पंत ने 48 गेंदों में शतक जमाकर तोड़ा।

चंद्रशेखर ने न सिर्फ भारतीय स्तर पर प्रतिनिधित्व किया है बल्कि वह 1987 में रणजी ट्रॉफी जीतने वाली टीम तमिलनाडु के सदस्य भी थे। इसके बाद चंद्रशेखर ने राष्ट्रीय चयनकर्ता, राज्य कोच और कमेंटेटर की भी भूमिका निभाई है। उन्होंने 81 प्रथम श्रेणी मैचों में 4999 रन बनाए हैं जिसमें नाबाद 237 रन उनका उच्चतम स्कोर रहा। जब भारतीय टीम के कोच ग्रेग चैपल थे तब चंद्रशेखर राष्ट्रीय कोच भी रहे थे। साथ ही चंद्रशेखर आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के क्रिकेट मैनेजर भी रह चुके हैं।

Related posts