भारतीय मूल के व्यक्ति का विदेश में सबसे महंगा तलाक, पत्नी को देने होंगे अरबों रुपए

चैतन्य भारत न्यूज

भारतीय मूल के एक व्यक्ति को सिंगापुर में तलाक लेना महंगा पड़ गया। अदालत ने उसे पत्नी और बच्चों की देखरेख के लिए 1 अरब 27 करोड़ रुपए का गुजारा भत्ता देने का आदेश सुनाया। जानकारी के मुताबिक, सिंगापुर की ब्रिटिश कोलंबिया अदालत ने यह आदेश डॉ. गोबिंदनाथन देवतासन को दिया है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने डॉ. देवतासन के व्यवहार को निंदनीय भी बताया है।

19 साल चली शादी

सूत्रों के मुताबिक, सिंगापुर में ब्रिटिश कोलंबिया अदालत में एक भारतीय शख्स ने तलाक की अर्जी दायर की थी। मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने ये आदेश दिया है कि, वह अपनी पूर्व पत्नी को संपत्ति और बच्चों के पालन-पोषण और गुजारे के तौर पर 2.5 करोड़ सिंगापुर डॉलर देंगे। बता दें विदेश में गुजारा भत्ता के तौर पर दी गई ये सबसे बड़ी रकमों में से एक हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, डॉ. देवतासन की साल 1997 में क्रिस्टी से शादी हुई थी। शादी के बाद शुरुआत में तो दोनों के बीच आपसी तालमेल ठीक था लेकिन फिर धीरे-धीरे डॉ. देवतासन के व्यवहार में बदलाव होना शुरू हो गया। साल 2015 और 2016 में दोनों के बीच कुछ ज्यादा ही झगड़ा होना शुरू हो गया। इसके बाद 2016 में क्रिस्टी ने अदालत में तलाक की अर्जी लगाई थी।

कई देशों में है संपत्ति

जानकारी के अनुसार डॉ. देवतासन का एक निजी अस्पताल हैं। वे काफी अमीर भी हैं। अदालत के फैसले में बताया गया है कि डॉ. देवतासन के पास कई सारी महंगी कारें, ज्वेलरी और कलाकृतियां हैं। इसके अलावा अमेरिका, सिंगापुर, कनाडा, थाईलैंड और मलेशिया में भी उसकी कई संपत्तियां हैं।

Related posts