एक चूहा पकड़ने में 22 हजार रुपए खर्च करता है चेन्नई रेल डिवीजन, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

rats,rats in railway station,railway station,Chennai,indian railway,RTI

चैतन्य भारत न्यूज

चेन्नई. देश दुनिया के तमाम हिस्सों में चूहे चीजों को कुतर-कुतर कर नुकसान पहुंचा रहे हैं, साथ ही बीमारियां फैलाने में भी भूमिका निभा रहे हैं। वहीं भारतीय रेलवे भी इन चूहों से बहुत परेशान है। इतना ही नही बल्कि सरकार इस परेशानी से बचने के लिए एक रेल डिवीजन में हर चूहे पर औसतन 22,300 रुपए खर्च कर रही है।



rats,rats in railway station,railway station,Chennai,indian railway,RTI

जी हां… आप ये सुनकर हैरान जरूर हो सकते हैं लेकिन यह सच है। हाल ही में आई ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, चेन्नई डिवीजन ने चूहे पकड़ने में भारी-भरकम रकम खर्च की। चेन्नई डिवीजन ऑफिस ने आरटीआई का जवाब देते हुए कहा है कि, वो पिछले काफी समय से चूहों से परेशान है। रेलवे स्टेशन और इसके कोचिंग सेंटर में भी चूहे परेशान कर रहे हैं।

rats,rats in railway station,railway station,Chennai,indian railway,RTI

डिवीजन के मुताबिक, चूहे के आतंक से बचने के लिए उन्होंने मई 2016 से अप्रैल 2019 तक 5.89 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। जब चेन्नई डिवीजन से पूछा गया कि, उन्होंने कितने चूहे पकड़े तो चेन्नई डिवीजन ने साल 2018-19 की ही जानकारी देते हुए बताया कि 2636 चूहे पकड़े गए हैं, जिसमे चेन्नई सेंट्रल, चेन्नई एग्मोर, चेंगलपट्टू, तामब्रम और जोलारपेट रेलवे स्टेशन पर 1715 चूहे पकड़े गए हैं और रेलवे के कोचिंग सेंटर में 921 चूहे पकड़े गए हैं।

rats,rats in railway station,railway station,Chennai,indian railway,RTI

अगर इस आंकड़े के हिसाब से देखा जाए तो चेन्नई डिवीजन ने एक चूहा पकड़ने के लिए करीब 22,344 रुपए खर्च किए। दरअसल एक रिपोर्ट में पूछा गया था कि, चूहों से निपटने के लिए रेलवे क्या कदम उठा रहा है और उस पर कितना खर्च कर रहा है? इसके बाद रिपोर्ट जारी की गई जिसमें चूहों पर करोड़ों रुपए खर्च करने का खुलासा हुआ।

ये भी पढ़े…

इन लोगों को रेलवे किराए में मिलती है 25 से 75 फीसदी तक की छूट, आप भी उठा सकते हैं फायदा

रेलवे मुफ्त में करेगा यात्रियों का मोबाइल रिचार्ज, बस पूरी करना होगी यह शर्त

रेलवे ने जारी की देश के सबसे साफ स्टेशनों की लिस्ट, इस बार जयपुर ने मारी बाजी

Related posts