भारतीय टीनएजर ने दीवार में बिना छेद किए भारी सामान टांगने की खोजी तकनीक, अब परिवार करेगा इसका कारोबार

चैतन्य भारत न्यूज

दुबई. भारतीय मूल के टीनएजर ( किशोर) ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में अपनी मेधा का झंडा गाड़ दिया है। यूएई में रहने वाले 16 वर्षीय इशिर वाधवा ने अपने स्कूल के एक प्रोजेक्ट के लिए दीवार में छेद किए बिना ही भारी सामान लटकाने की नई तकनीक खोज निकाली है। अब उसका परिवार इस तकनीक पर आधारित चीजें बनाने के कारोबार में उतर रहा है।

खलीज टाइम्स की एक खबर के अनुसार इशिर दुबई में जीईएमएस वर्ल्ड एकेडमी का छात्र है। उसे यह प्रोजेक्ट दसवीं कक्षा में बनाना था। मेधावी इशिर ने घरों की दीवारों में कील ठोंकने से होने वाले नुकसान को दखा तो उसके मन में इसे बनाने का विचार आया। इशिर ने बताया कि प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए उसने अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग पढ़ रहे बड़े भाई अविक से मदद मांगी। दोनों ने काफी विचार के बाद यह तरकीब सूझी।

इशिर के मुताबिक इस तकनीक में लोहे यानी स्टील की एक प्लेट दीवार से चिपकी होती है जिसे अल्फा स्टील टेप नाम दिया गया है। दूसरी प्लेट जिस पर सामान टांगा जाता है, उसे बीटा स्टील टेप नाम दिया गया, इसकी शक्तिशाली चुंबक पूरे ढांचे को एक साथ जोड़े रखती है।  इशिर ने इस ‘क्लैपइट’ नाम दिया है। इशिर के पिता सुमेश वाधवा ने बताया कि वे बेटे के कार्य से बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा कि इस तकनीक की मदद से हम अपने पूरे होम थियेटर को दीवार में छेद किए बिना टांग सकते हैं। सुमेश ने अब अपनी नौकरी छोड़ दी है और कारोबार के रूप में ‘क्लैपइट’ को लांच करने का निर्णय किया है।

Related posts