जकार्ता के डूबने के डर से सहमा इंडोनेशिया, लिया राजधानी बदलने का फैसला

Jakarta,Indonesia,

चैतन्य भारत न्यूज

इंडोनेशिया इन दिनों अपनी राजधानी जकार्ता को बदलने के बारे में विचार कर रहा है। दरअसल, जकार्ता में ग्लोबल वार्मिंग का खतरा बढ़ रहा है और इसी को देखते हुए इंडोनेशिया अपनी राजधानी को बदल देगा। कहा जा रहा है कि जकार्ता भविष्‍य में जावा द्वीप से बाहर जा सकता है। इंडोनेशिया अपनी नई राजधानी कहां बसाएगा इस बारे में अब तक कोई जानकारी नहीं मिली है। लेकिन यहां की राजधानी के लिए ‘पलानकोराया’ शहर की चर्चा हो रही है।

बता दें इंडोनेशिया के राष्‍ट्रपति जोको विडोडो ने नेशनल डेवलेपमेंट एंड प्‍लानिंग बोर्ड के प्‍लान का समर्थन करते हुए यह फैसला लिया है। इस प्लान में जकार्ता को जावा द्वीप से बाहर ले जाने की बात कही गई है। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि, जकार्ता ऐसा शहर है जो बहुत तेजी से डूब रहा है। इसके डूबने की बड़ी वजह पीने और नहाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ग्राउंडवाटर की निकासी है। बता दें जकार्ता का आधा भाग समुद्र में हैं और इसलिए ये लगातार सिकुड़ता जा रहा है।

संयुक्‍त राष्‍ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक, जकार्ता में करीब एक करोड़ लोग रहते हैं। साथ ही यहां 3 करोड़ लोग ग्रेटर मेट्रोपोलिटिन इलाके में रहते हैं। गौरतलब है कि, जकार्ता के नीचे से करीब 13 नदियां बहती हैं। साथ ही इस शहर में जावा सागर दिन-रात पानी फेंकता रहता है। यहां अक्सर बाढ़ भी आती रहती है जिसकी वजह से शहर का ज्यादातर हिस्सा पानी में डूबा रहता है। एक रिसर्च में पाया गया कि, साल 2050 तक जकार्ता का 95 फीसदी हिस्‍सा पानी में डूब जाएगा।

Related posts