अपनी खूबसूरती के जाल में फंसाकर बड़े अफसरों और नेताओं से ऐंठ रही थीं करोड़ों रुपए, 5 महिलाएं 1 पुरुष गिरफ्तार

honey trap indore

चैतन्य भारत न्यूज

इन दिनों मध्यप्रदेश के राजनीतिक गलियारों में हाईप्रोफाइल हनी ट्रैप का मामला गर्माया हुआ है। एंटी टेररिस्ट स्क्वाॅड (एटीएस) की टीम ने बुधवार शाम भोपाल से तीन और इंदौर से दो महिलाओं को गिरफ्तार किया। अब तक एक युवक और पांच महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। महिलाओं पर आरोप है कि ये सभी अपनी खूबसूरती के जरिए बड़े अधिकारियों और व्यापारियों को हनीट्रैप के जाल में फंसाकर उनसे करोड़ों रुपए ऐंठती थीं। आरोपियों के पास से 14 लाख रुपए और एक कार बरामद की गई है। पुलिस के मुताबिक, इस गैंग की सरगना छतरपुर की महिला है जिसे पकड़ लिया गया है।


कैसे हुआ खुलासा

इस रैकेट का खुलासा इंदौर नगर निगम के एक अधिकारी की शिकायत के बाद हुआ। पुलिस की पूछताछ फिलहाल जारी है। अब तक इस गैंग की चपेट में कई बड़े नेता और अफसर आ चुके हैं। गैंग में मौजूद खूबसूरत महिलाएं आईएएस और आईपीएस अफसरों को हनी ट्रैप कर उन्हें ब्लैकमेल करती थीं और फिर उनके वीडियो वायरल करने की धमकी देकर करोड़ों रुपए ऐंठती थीं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 17 सितंबर को एक अधिकारी द्वारा इंदौर के पलासिया थाने में शिकायत पत्र दिया जिसमें लिखा था कि- आरती दयाल नामक महिला द्वारा उनके और उनके अन्य परिचितों के निजी नंबर पर व्हाट्सऐप कॉल और मैसेज आ रहे हैं और यह कहा जा रहा है कि आरती दयाल के पास फरियादी के वीडियो क्लिप हैं। आरती दयाल वीडियो क्लिप वायरल करने की धमकी देते हुए उसके एवज में 3 करोड़ रुपए की मांग कर रही है।

पलासिया थाना पुलिस ने शिकायत के आधार पर आरती और उसके अन्य साथियों के खिलाफ धारा 419, 420, 384, 506, 120बी और 34 के तहत एफआईआर दर्ज की है। पुलिस की टीम ने आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी का जाल बिछाया था। आरती 3 करोड़ रुपए की पहली किश्त 50 लाख रुपए लेने के लिए हौंडा क्रेटा कार से इंदौर आई थी। तभी पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पुलिस की गिरफ्त में 29 वर्षीय आरती दयाल निवासी सागर लैंडमार्क मिनाल रेसीडेंसी, भोपाल, 18 वर्षीय मोनिका यादव निवासी ग्राम सवस्या तहसील नरसिंहगढ़ और 45 वर्षीय ओमप्रकाश कोरी निवासी आदमपुर छावनी, भोपाल हैं।

honeytrap

आरती ने बताया कि मिनाल रेसीडेंसी निवासी उसकी साथी श्वेता जैन ने उसे करीब 8 महीने पहले नगर निगम अधिकारी से मिलवाया था। मुलाकात के बाद दोनों के बीच फोन पर बातचीत शुरू हो गई थी। फिर आरती ने अधिकारी से मिलने को कहा। जब आरती अपनी साथी मोनिका के साथ अधिकारी से मिलने इंदौर पहुंची तो उसने मुलाकात के दौरान चुपके से एक वीडियो क्लिप बना ली और फिर भोपाल पहुंचने के बाद वह अधिकारी से 3 करोड़ रुपए की मांग करने लगी वरना वीडियो वायरल कर छवि धूमिल करने की बात कहने लगी।

मोनिका ने पूछताछ में बताया कि, वह भोपाल से बीएससी की पढ़ाई कर रही है और पिछले एक साल से आरती को जानती है। आरोपित ओमप्रकाश पिछले एक साल से आरती की कार क्रेटा चला रहा है। आरती ने बताया कि उसकी साथी 39 वर्षीय श्वेता पति विजय जैन निवासी मिनाल रेसीडेंसी, भोपाल भी उनके साथ शामिल थी। इनके अलावा 48 वर्षीय श्वेता पति स्वप्निल जैन निवासी रेवेरा टाउनशिप, भोपाल और 34 वर्षीय बरखा पति अमित सोनी निवासी कोटरा सुल्तानाबाद को भी गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने और भी किन-किन लोगों के साथ इस वारदात को अंजाम दिया है, पुलिस रिमांड में इसकी विस्तृत पूछताछ की जाएगी।

यह भी पढ़े…

इंदौर-भोपाल में अफसर, नेता व रईसों को अपने जाल में फंसाकर ब्लैकमेल, कई महिलाएं गिरफ्तार

Related posts