इंदौर, उज्जैन समेत कई शहरों में 19 अप्रैल तक बढ़ा, अंतिम संस्कार के लिए शमशान घाट में नहीं बची जगह

चैतन्य भारत न्यूज

मध्य प्रदेश में एक दिन में करीब 5 हजार कोरोना संक्रमित मिलने के बाद इंदौर, जबलपुर, उज्जैन सहित 12 शहरों में लॉकडाउन बढ़ाया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जिलों के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ हुई बैठक के बाद यह फैसला लिया गया।

कहां कब से कब तक लॉकडाउन

इंदौर शहर, राऊ नगर, महू नगर, शाजापुर शहर  और उज्जैन शहर (एवं उज्जैन जिले के सभी नगरों) में 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक।
बड़वानी, राजगढ़, विदिशा जिलों में (शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में ) 19 अप्रैल सुबह ६ बजे तक बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी जिलों (शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों) और जबलपुर शहर में 12 अप्रैल की रात से 22 अप्रैल की सुबह तक

रतलाम-छिंदवाड़ा समेत 5 शहरों में पहले ही लॉकडाउन

रतलाम जिले में 9 दिन का लॉकडाउन 9 अप्रैल की शाम 6 से लागू है, जो 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा। इसके अलावा खरगोन, कटनी और बैतूल में भी 17 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक सब-कुछ लॉक रहेगा। वहीं, छिंदवाड़ा में 8 अप्रैल की रात 8 बजे से लगातार 7 दिन के लिए लॉकडाउन लगाया गया है।

इंदौर और भोपाल में सबसे ज्यादा नए केस

प्रदेश में सबसे ज्यादा केस इंदौर में मिल रहे हैं। यहां 24 घंटे में 912 संक्रमित सामने आए हैं, 5 लोगों की मौत हुई है। दूसरे नंबर पर राजधानी भोपाल है, जहां 736 केस मिले हैं। जबलपुर तीसरा सबसे संक्रमित जिला है। यहां 369 केस सामने आए हैं और 2 लोगों की मौत हुई है। उज्जैन में 150 मरीज मिले और 2 की जान गई।

भोपाल के शमशान घाटों में जगह नहीं

भोपाल में हालात कुछ ऐसे हो गए हैं कि यहां के श्मशान घाट और कब्रिस्तानों में शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए जगह की कमी पड़ने लगी है। यहां के भदभदा विश्राम घाट को कोविड-19 से मरे लोगों के शव जलाने के लिए निर्धारित किया गया है, लेकिन शुक्रवार को यहां 41 शवों का अंतिम संस्कार किए जाने के बाद आठ शवों को लौटा दिया गया। उन्हें शनिवार की सुबह आने के लिए कहा गया।

Related posts