लुटेरी दुल्हनों के गिरोह का भंडाफोड़, शादी के नाम पर लोगों को लगा चुके हैं करोड़ों की चपत, 6 गिरफ्तार

marriage beuro

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. इंदौर की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने एक ऐसे लुटेरी दुल्हन वाले गिरोह को गिरफ्तार किया है, जो जैन विवाह संस्थान नामक मैरिज ब्यूरो की आड़ में लोगों के साथ धोखधड़ी करता था। यह गिरोह पैसा लेकर महिला की शादी करता था और शादी के कुछ दिन बाद ही महिला घर से सारा माल समेटकर भाग निकलती। बुधवार को पुलिस ने इस मामले में दो महिलाओं समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है।


पहले से शादीशुदा हैं महिलाएं

पुलिस को इन सभी आरोपितों की अलग-अलग मामलों में लंबे समय से तलाश थी। एसटीएफ की इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक पद्मविलोचन शुक्ला ने बताया कि, गिरफ्तार आरोपित नीलेश वाटकिया (30) निवासी न्यू गौरी नगर, विनायक गावड़े (40) निवासी नैनोद, अनिल जैन (54) निवासी अंजनी नगर, विशाल सोनी (41) निवासी कालानी नगर, पूजा उर्फ रितु राठौर (25) निवासी पंधाना और संगीता पति सुखदेव (38) निवासी पंचशील नगर एरोड्रम हैं। उन्होंने बताया कि, लुटेरी दुल्हनों का यह गिरोह मैरिज ब्यूरो की आड़ में इंदौर से चलाया जा रहा था। वर वक्ष से गिरोह मोटी रकम ऐंठकर उन महिलाओं से शादी करवा देता था जो पहले से शादीशुदा हैं और उनकी कुछ संताने भी हैं।

अहमदाबाद और राजस्थान में लोगों को लगाया चूना

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि, ‘शादी के कुछ ही दिन बाद ये महिलाएं अपने ससुराल से नकदी और जेवरात लेकर फरार हो जाती थीं।’ इस गिरोह ने गुजरात के अहमदाबाद और राजस्थान के प्रतापगढ़ में लोगों को चूना लगाया है। इनके खिलाफ वहां के पुलिस थानों में दो आपराधिक मामले भी दर्ज हैं। उन्होंने बताया कि, आरोपितों को संबंधित मामलों में गुजरात और राजस्थान की पुलिस को सौंप दिया गया है।

पूजा बन डॉक्टर से की शादी

नीलेश के मुताबिक, 2018 में रितू को पूजा बनाकर अहमदाबाद के एक डॉक्टर से उसका रिश्ता करा दिया। पूजा बनकर रितु डॉक्टर के साथ कुछ दिन रही और फिर वह नीलेश के साथ भाग आई। इस काम के लिए नीलेश और रितु को 80 हजार रुपए मिले थे। इसमें से उन्होंने 20-20 हजार रुपए विनायक और संगीता को भी दिए।

फर्जी माता-पिता भी ले आते थे

जानकारी के मुताबिक, यह गिरोह 10-15 हजार रुपए देकर नकली माता-पिता भी ले आता था। रितु का राजस्थान के एक व्यापारी से भी रिश्ता तय हुआ था। शादी के बाद रितु वहां से 3 लाख रुपए और गहने लेकर भाग गई थी। इसी तरह संगीता ने भी प्रतापगढ़ में एक विकलांग से शादी करके वहां से रुपए चुरा लिए थे। विशाल सोनी और अनिल जैन इस गोरखधंधे को पिछले ढाई साल से संचालित कर रहे हैं और इसकी आड़ में लड़कियों का सौदा करते हैं।

इन्हें भी बनाया शिकार

रितु की शादी ब्यावरा के एक गुप्ता परिवार में भी कराई गई थी। इस शादी के लिए गिरोह को पांच लाख रुपए मिले थे। शादी के महज दस दिन बाद ही रितु वहां से डेढ़ लाख रुपए लेकर भाग निकली। इसके बाद रितु की शादी देवास के एक परिवार में तीन लाख रुपए लेकर करवाई गई। वहां भी रितु शादी के तीन दिन बाद 70 हजार रुपए लेकर भाग निकली। जानकारी के मुताबिक, गुजरात पुलिस नीलेश, रितू, संगीता व विनायक को लेकर गई, जबकि राजस्थान के प्रतापगढ़ में दर्ज केस में अनिल व विशाल को पुलिस ले गई है।

ये भी पढ़े…

5 बीवियों के शौक पूरे करने के चक्कर में 50 युवतियों को बनाया निशाना, की दो करोड़ की ठगी

अपनी खूबसूरती के जाल में फंसाकर बड़े अफसरों और नेताओं से ऐंठ रही थीं करोड़ों रुपए, 5 महिलाएं 1 पुरुष गिरफ्तार

14 साल में एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत, पुलिस ने कब्र खोदकर निकालीं 5 लाशें, बहू गिरफ्तार

Related posts