देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां ‘इंसानी रूप’ में विराजमान हैं भगवान गणेश, जानिए इससे जुड़ा गहरा रहस्य

ganesh mandir,thilatharpanapuri ganesh

चैतन्य भारत न्यूज 

वैसे तो सभी मंदिरों में भगवान गणेश के गजमुख स्वरुप की प्रतिमा स्थापित की जाती है। लेकिन एक ऐसा भी मंदिर है जहां भगवान गणेश गजमुख न होकर इंसान के रूप में हैं। बता दें तमिलनाडु के कूटनूर से लगभग 2 कि.मी. की दूरी पर तिलतर्पणपुरी नामक स्थान पर भगवान गणेश का आदि विनायक मंदिर है, जहां वे इंसान के चेहरे में विराजित हैं।

इस मंदिर की एक खूबी ये भी है कि, यह ऐसा एक मात्र गणेश मंदिर है जहां लोग अपने पितरों की शांति के लिए पूजन करने भी आते हैं। मान्यता है कि, इस जगह पर भगवान श्रीराम ने भी अपने पूर्वजों की शांति के लिए पूजा की थी। इसी परंपरा के चलते आज भी कई भक्त अपने पूर्वजों की शांति के लिए यहां पूजा करने आते हैं। तमिलनाडु में मौजूद ये मंदिर भले ही बहुत भव्य न हो लेकिन ये अपनी इस खूबी के लिए दुनिया भर में प्रसिद्द है।

बता दें इस मंदिर के साथ-साथ यहां सरस्वती मंदिर भी है। सरस्वती मंदिर को कवि ओट्टकुठार ने बनवाया था। यहां आने वाले भक्त सरस्वती मंदिर के दर्शन किए बिना नहीं जाते हैं। मंदिर परिसर में भगवान शिव का भी मंदिर बना है। इस मंदिर से बाहर निकलते ही श्रीगणेश का नरमुखी मंदिर स्थित है।

तिलतर्पणपुरी का अर्थ

इस जगह का नाम तिलतर्पणपुरी पड़ने के पीछे भी एक बड़ा कारण है। तिलतर्पणपुरी दो शब्दों के मेल से बना है। पहला तिलतर्पण और दूसरा पुरी। तिलतर्पण का अर्थ होता है- पूर्वजों को समर्पित और पुरी का अर्थ होता है शहर, यानी इस जगह का मतलब ही है पूर्वजों को समर्पित शहर।

ये भी पढ़े…

इस दिन से शुरू होगी श्रीखंड महादेव यात्रा, जान जोखिम में डालकर 18,500 फीट की ऊंचाई पर दर्शन करने पहुंचते हैं श्रद्धालु

आखिर क्यों हर साल बीमार हो जाते हैं भगवान जगन्नाथ, यह चमत्कारी काढ़ा कर देता है उन्हें स्वस्थ

जगन्नाथ रथयात्रा के दौरान सोने की झाड़ू से की जाती है रास्ते की सफाई

 

Related posts