अंतरराष्ट्रीय मानव एकता दिवस : विविधता में एकता का दिन, जो विश्वभर को परिवार के रूप में रखता है बांधकर

international human unity day 2019

चैतन्य भारत न्यूज

हर साल 20 दिसंबर को ‘अंतरराष्ट्रीय मानव एकता दिवस’ (International Human Solidarity Day) मनाया जाता है। इसका मकसद है लोगों को विविधता में एकता का महत्व बताते हुए जागरूकता फैलाना। तमाम देश इस दिन अपनी जनता के बीच शांति, भाईचारा, प्यार, सौहार्द और एकता के संदेश का प्रसार करते हैं।


क्या है एकता

एकता का मतलब यह कतई नहीं है कि देश में किसी भी मुद्दे पर जनता के बीच कोई मतभेद नहीं है, बल्कि मतभेदों के बावजूद, देश हित में सभी लोग अगर एक जैसी सोच अपना लेते हैं तो हैं यह एकता होती है। राष्ट्रीय एकता सभी नागरिकों में देशभक्ति की भावना को बढ़ावा देता है और वे पहले खुद को भारत के नागरिक के रूप में मानते हैं और उसके बाद ही हिंदू, मुस्लिम या अन्य धार्मिक भावनाओं को मान्यता देते हैं। विचारों और मान्यताओं में मतभेद के बावजूद, अगर एक देश के सभी लोग आपसी प्रेम, एकता और भाईचारे की भावना से जुड़े होते हैं तो इसकी एकमात्र वजह राष्ट्रीय एकता ही है। राष्ट्रीय एकता एक ऐसी भावना है जो एक राष्ट्र के लोगों के बीच एकता या देशभक्ति को दर्शाता है। यह एक देश के नागरिकों के बीच एक आम पहचान को बढ़ावा देता है जिससे सभी नागरिक आपस में एकता का अनुभव करते हैं।

एकता के लिए ये प्रयास किए जाते हैं

आज विश्व एक परिवार के रूप में है। विश्व समुदाय को मिलकर एकता दिवस के महत्व को प्रमाणित करना होगा तभी विश्व में शांति, एकता व भाईचारा कायम रहेगा। विश्व के अनेक देश इस दिन जनता के बीच शांति, भाईचारा, प्यार, सौहार्द व एकता के संदेश का प्रचार करते हैं। इस दिन दुनियाभर के देशों को सामाजिक और आर्थिक विषमता को दूर कर एकता को बढ़ावा देने और गरीबी उन्मूलन में मदद करने के लिए नवीन तरीकों को खोजने के तरीके पर बहस करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

ये भी पढ़े…

राष्ट्रीय एकता दिवस : पीएम मोदी ने सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि, कहा- जो लोग युद्ध नहीं जीत सकते वो फूट डाल रहे हैं

अल्पसंख्यक अधिकार दिवस : अल्पसंख्यक समुदायों के अधिकारों की रक्षा करने का दिन, जानें इसका इतिहास

अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस : ये हैं दुनिया की सबसे महंगी चाय, करोड़ों में है कीमत

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस : ऊर्जा हर व्यक्ति के जीवन का अहम हिस्सा, बेहद जरूरी है इसका संरक्षण

Related posts