International Museum Day: इतिहास से भविष्य को जोड़ते हैं संग्रहालय, जानें इस दिन का इतिहास और उद्देश्य

चैतन्य भारत न्यूज

हर वर्ष 18 मई को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस (International Museum Day) मनाया जाता है। संग्रहालय में हमारे पूर्वजों की अनमोल यादों को संजोकर रखा जाता है। यह दिवस विश्वभर में संग्रहालयों की भूमिका के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। आइए आज जानते हैं कि अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस क्यों मनाया जाता है, कब से मनाया जाता है और इससे जुड़ीं अन्य रोचक बातें…

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का इतिहास

1977 में इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ म्यूजियम (आईकॉम) ने अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस की शुरुआत की। 1977 से फिर 18 मई को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाया जाने लगा। हर साल दुनिया भर के संग्रहालय अपने-अपने देशों के अंदर इसका आयोजन करते हैं। वे कार्यक्रम के दौरान संग्रहालय के महत्व को लेकर जागरूकता फैलाते हैं। 2009 में 90 से ज्यादा देशों के 20,000 संग्रहालयों ने अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस में हिस्सा लिया। 2010 में 98 देश, 2011 में 100 देश और 2012 में 129 देशों के करीब 30,000 संग्रहालय ने हिस्सा लिया।

उद्देश्य

इस दिन को मनाने का कारण समाज को संग्रहालय के महत्व से अवगत कराना है। भले ही संग्रहालय के पास राजनीतिक शक्ति न होती हो लेकिन उसके पास राजनीतिक प्रक्रियाओं को प्रभावित करने की संभावना होती है। संग्रहालयों की भूमिका महत्वपूर्ण चीजों का संग्रह करना था। लेकिन अब संग्रहालयों द्वारा बदलती दुनिया के लिए एक आइकन के तौर पर उन संग्रहों का इस्तेमाल किाय जाता है। संग्रहालय में ऐसी अनेक चीज़ें सुरक्षित रखी जाती हैं, जो मानव सभ्यता की याद दिलाती हैं। संग्रहालयों में रखी गई वस्तुएं प्रकृति और सांस्कृतिक धरोहरों को प्रदर्शित करती हैं।

ये भी पढ़े…

World Telecommunication Day: जानिए क्यों 17 मई को दुनियाभर में मनाया जाता है दूरसंचार दिवस और क्या है इसका इतिहास

मातृ दिवस: ममता का सागर है वो मां, संसार में उसके समान कोई छाया नहीं, उस मां का सम्मान करो, अपमान नहीं

मजदूर दिवस 2020: जानें क्यों मनाया जाता है यह दिवस, क्या है इसका इतिहास, महत्‍व और मनाने का तरीका

Related posts