International Nurses Day: आखिर क्यों 12 मई को मनाया जाता है नर्स दिवस? जानिए इसका इतिहास और महत्व

चैतन्य भारत न्यूज

हर वर्ष दुनियाभर में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day) मनाया जाता है। नर्सें लोगों को स्वास्थ्य रहने में बड़ा योगदान देती हैं। यह दिन उनके योगदान को समर्पित होता है। 12 मई को नोबल नर्सिंग सेवा की शुरूआत करने वाली ‘फ्लोरेंस नाइटइंगेल’ के जन्मदिन के उपलक्ष्य में हर साल इसी दिन नर्स दिवस मनाया जाता है। इन्होंने मरीजों और रोगियों की सेवा की। प्राइमिया युद्ध के दौरान लालटेन लेकर घायल सैनिकों की प्राणप्रण से सेवा करने के कारण ही उन्हें ‘लेडी बिथ द लैम्प’ कहा गया।

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस का इतिहास

अमेरिका के स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण विभाग के एक अधिकारी डोरोथी सुदरलैंड ने पहली बार नर्स दिवस मनाने का प्रस्ताव 1953 में रखा था। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति ड्विट डी।आइजनहावर ने इसकी घोषणा की थी। पहली बार 1965 में नर्स दिवस मनाया गया था। फिर जनवरी, 1974 में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय दिवस के तौर पर मनाने की घोषणा की गई।

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस का महत्व

नर्सिंग दुनिया भर में स्वास्थ्य रखरखाव से संबंधित सबसे बड़ा पेशा है। लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर रखने में नर्सों का बड़ा योगदान होता है। नर्सें को प्रशिक्षण दिया जाता है ताकि वे मरीजों को मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और चिकित्सीय तौर पर फिट होने में मदद करें। इस दिन को मनाकर नर्सों के योगदान को रेखांकित किया जाता है। इससे दुनिया नर्सों के महत्व से अवगत होती है। नर्सों को समाज में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है।

कैसे मनाया जाता है यह दिन

नर्स दिवस पर हर साल अंतरराष्ट्रीय नर्स परिषद द्वारा अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस किट तैयार किया जाता है और उसे बांटा जाता है। 1965 से अभी तक यह दिन हर साल इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज द्वारा अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज इस मौके पर नर्सों के लिए नए विषय की शैक्षिक और सार्वजनिक सूचना की जानकारी की सामग्री का निर्माण और वितरण करके इस दिन को याद करता है।

ये भी पढ़े…

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस: समाज का आईना होता है प्रेस, जानें 3 मई को ही क्यों मनाया जाता है यह दिवस

मजदूर दिवस 2020: जानें क्यों मनाया जाता है यह दिवस, क्या है इसका इतिहास, महत्‍व और मनाने का तरीका

आयुष्मान भारत दिवस: देश के 50 करोड़ लोगों का सहारा बनी आयुष्मान भारत योजना, जानिए क्या हैं इसके लाभ

Related posts