देश मे बाघों की संख्या बढ़कर हुई करीब 3 हजार, पीएम मोदी ने जारी की रिपोर्ट

चैतन्य भारत न्यूज

29 जुलाई को अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय बाघ अनुमान रिपोर्ट 2018 जारी की है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2014 के मुकाबले देश में 741 बाघों की संख्या बढ़ी है। 2006 में भारत में 1411 बाघ थे, 2010 में 1706, 2014 में 2226 बाघ थे और 2018 में 2967 बाघ देश में मौजूद हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, 3,000 बाघों की संख्या के साथ भारत इनके लिए विश्व के सबसे सुरक्षित स्थानों में से एक है।

पीएम मोदी ने बताया कि, ‘नौ साल पहले यानी 2010 में रूस के सेंट पीट्सबर्ग में अंतरराष्ट्रीाय बिरादरी के समक्ष 2022 तक बाघों की संख्यों को दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया था। हमने चार साल पहले ही बाघों के बचाने के लक्ष्य को हासिल कर लिया है।’ पीएम ने कहा कि ‘जो कहानी ‘एक था टाइगर’ से शुरू होकर ‘टाइगर जिंदा है’ तक पहुंची है, वह यहीं खत्म नहीं होनी चाहिए।’ वहीं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि, ‘कुछ साल पहले देश भर में कुल 1400 बाघ ही बचे थे लेकिन अब बाघों की संख्या बढ़कर 2,967 हो गई है। यह बेहद खुशी की बात है।’

उन्होंने बताया कि, ‘बाघों की संख्या के संबंध में 3 लाख 80 हजार वर्ग किमी का सर्वे हुआ। 26 हजार कैमरा ट्रैप्स लगे थे। 3.5 लाख फोटो आए और उसमें 76 हजार टाइगर के फोटो आए। इस काम में पीएम मोदी ने हमारा मार्गदर्शन किया। जिसके चलते पिछले 5 साल में वन क्षेत्र बढ़ा है।’ केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, ’15 हजार वर्ग किमी से ज्यादा फारेस्ट कवर बढ़ा है। सारे जीवन प्राणी हमारे जीवन का हिस्सा हैं। आज पूरी दुनिया सलाम करेगी कि बाघों के विकास का इतना बड़ा काम भारत ने किया है।’ बता दें बाघों की गणना का ब्योरा हर 4 साल में जारी किया जाता है। पिछली गणना साल 2014 में की गई थी।

Related posts