चंद्रयान 2 : इसरो में निराश वैज्ञानिकों से बोले पीएम मोदी- हौसला कमजोर नहीं पड़ा, मजबूत हुआ

chandrayaan 2,chandrayaan 2 latest update ,moon mission

चैतन्य भारत न्यूज

चंद्रयान-2 के आखिरी चरण में भारत के मून लैंडर विक्रम से उस समय संपर्क टूट गया, जब वह शनिवार तड़के चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ रहा था। संपर्क टूटने की वजह से वैज्ञानिक परेशान हो उठे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया है। साथ ही उन्होंने इसरो के कंट्रोल सेंटर से देश को भी संबोधित किया।

978 करोड़ रुपए की लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन पर संस्पेंस अब और भी बढ़ गया है। हालांकि इसके बावजूद भारत की इस स्पेस एजेंसी को बधाई पर बधाई मिल रहे हैं। सभी ने इसकी उपलब्धियों पर गर्व जताया है। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि, ‘हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं। ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो वो विज्ञान है। विज्ञान में विफलता नहीं होती, केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं।’

उन्होंने कहा कि, ‘हम निश्चित रूप से सफल होंगे। इस मिशन के अगले प्रयास में भी और इसके बाद के हर प्रयास में भी कामयाबी हमारे साथ होगी। मैं सभी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवार को भी सलाम करता हूं। उनका मौन लेकिन बहुत महत्वपूर्ण समर्थन आपके साथ रहा। हम असफल हो सकते हैं, लेकिन इससे हमारे जोश और ऊर्जा में कमी नहीं आएगी। हम फिर पूरी क्षमता के साथ आगे बढ़ेंगे।’ बता दें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का प्रदर्शन योजना के अनुरूप था उसके बाद उसका संपर्क टूट गया।

ये भी पढ़े…

बड़ी सफलता की ओर चंद्रयान-2, चांद से सिर्फ 35 किलोमीटर दूर लैंडर विक्रम

आप भी पीएम मोदी के साथ बैठकर देख सकते हैं चंद्रयान-2 की लैंडिंग, बस करना होगा ये काम, आज आखिरी मौका

 

Related posts