इसरो ने लॉन्च की EMISAT सैटेलाइट, दुश्मनों पर बाज की तरह रखेगी नजर

EMISAT,EMISAT launching,isro

चैतन्य भारत न्यूज 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आज एक बार फिर इतिहास रचते हुए पीएसएलवी सी45 को लॉन्च कर दिया। श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से आज सुबह 9 बजकर 27 मिनट पर पीएसएलवी सी45 को लॉन्च किया गया। पीएसएलवी सी45 के जरिए इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस उपग्रह EMISAT को लॉन्च किया गया है।

EMISAT के साथ अन्य 28 उपग्रह लॉन्च

EMISAT के अलावा दूसरे देशों के 28 उपग्रह भी लॉन्च किए गए हैं। इन देशों में अमेरिका के 24, लिथुआनिया के दो और स्पेन और स्विट्जरलैंड के एक-एक उपग्रह शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक, 749 किलोग्राम का यह उपग्रह डीआरडीओ को डिफेंस रिसर्च में मदद करेगा। बता दें यह इसरो का पहला ऐसा मिशन है जो कि तीन अलग-अलग कक्षाओं में उपग्रह स्थापित करेगा। सबसे पहले तो EMISAT को उसकी कक्षा में स्थापित किया जाएगा जिसके बाद 504 किलोमीटर की कक्षा पर अन्य 28 उपग्रह स्थापित होंगे।

जानकारी के मुताबिक यह मिशन 180 मिनट में पूरा किया गया। वैसे कई मायनों में EMISAT सैटेलाइट भारत के लिए महत्वपूर्ण है। EMISAT के जरिए दुश्मन देश जैसे कि पाकिस्तान पर नजर रखी जा सकती है। आइए जानते हैं इसकी खासियत के बारे में-

1. EMISAT पाकिस्तान की सीमा पर किसी भी तरह की गतिविधि पर नजर रखेगा।

2. EMISAT अपने कम्युनिकेशन इंटेलिजेंस के जरिए यह पता लगा सकता है कि उस क्षेत्र में कितने कम्युनिकेशन डिवाइस सक्रिय हैं।

3. EMISAT सीमा पर तैनात सेंसर के जरिए अपने दुश्मन के क्षेत्र की टोपोग्राफी का पता लगा सकता है।

4. EMISAT के जरिए अंधेरे मे भी तस्वीरें खींची जा सकती है।

5. EMISAT दुश्मन के हथियारों और उनकी सैन्य पूंजी के बारे में पता लगा सकता है।

6. EMISAT पृथ्वी की 749 किलोमीटर ऊंची कक्षा में स्थापित होने की वजह से रडार नेटवर्क की निगरानी कर सकेगा।

Related posts